Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: मदनपुर थाना क्षेत्र से शराब के साथ सात बारातियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

0 205

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट 

 

बिहार नेशन: नीतीश सरकार ने बिहार में पूर्ण शराब बंदी कर रखी है फिर भी इसका व्यापार धड़ल्ले से जारी है। हालांकि पुलिस भी लगातार छापेमारी कर ऐसे गिरोह और शराबियों को पकड़ रही है। ताजा मामला औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र से सोमवार की देर रात्रि का है जहाँ शराब के साथ मस्ती करने जा रहे सात शराबियों को मदनपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर मंगलवार को जेल भेज दिया।

मदनपुर थाना

बता दें कि गिरफ्तार लोगों में नगर थाना क्षेत्र के धर्मशाला रोड निवासी कृष्ण मुरारी प्रसाद,बिनय कुमार टिकरी रोड औरंगाबाद निवासी पप्पू शर्मा,अनुज कुमार,राजू शर्मा,पिंटू शर्मा उर्फ शशिकांत कुमार और देव थाना क्षेत्र के पचौखड़ निवासी शिवपूजन कुमार शामिल हैं।

इस बारे में थानाध्यक्ष संजय कुमार ने बताया कि,सोमवार की देर रात्रि गश्ती के दौरान मदनपुर थाना क्षेत्र के खेसर गांव के समीप पुलिस वाहन जांच कर रही थी। तभी एक स्कोर्पियो गाड़ी जिसका नंबर-BR26G/3191 से कुछ लोग देव की तरफ से एक बाराती से लौट रहे थे। पुलिस ने गाड़ी रुकवाकर जांच की तो उसमें कुछ शराब पिये हुए थे। गाड़ी के अंदर जांच के दौरान गाड़ी में रखे आईबी ब्रांड के 375 एमएल का एक अंग्रेजी शराब की बोतल और तीन प्लास्टिक का गिलास बरामद हुआ।

शराब

जबकि सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर मदनपुर थाना लाया गया।जहां पर लोगों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मदनपुर में जांचोपरांत मदनपुर थाना कांड संख्या-369/21 के तहत प्राथमिकी दर्ज करते  हुए,धारा-30(a),37(b,c) के तहत मंगलवार को जेल भेज दिया गया है।इस अभियान में थानाध्यक्ष संजय कुमार के साथ प्रशिक्षु पुलिस अवर निरीक्षक आरती कुमारी के साथ सशस्त्र पुलिस के जवान शामिल थे।

शराब

आपको बता दें कि बिहार में पूर्ण शराब बंदी लागू है। लेकिन प्रत्येक दिन कहीं न कहीं से शराब बरामद की जा रही है। अब प्रश्न यह ऐसे में आता है कि आखिर ये शराब बंदी के बावजूद भी कहां से इसका व्यापार किया जा रहा है। इसे लेकर कई बार सत्ता पक्ष के कई विधायकों के साथ विरोधी पार्टियां भी लगातार सवाल उठा रही हैं और इसे निरस्त करने की माँग कर रही है। सभी का कहना है कि बिहार में यह कानून केवल एक नाम मात्र का है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.