Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: एक सप्ताह से अधिक चले सर्च ऑपरेशन में नक्सलियों के खिलाफ सुरक्षा बलों को मिली बड़ी सफलता

0 169

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र में सुरक्षा बलों द्वारा चलाए जा रहे सर्च ऑपरेशन से माओवादियों के पांव उखड़ गये हैं । एक सप्ताह से अधिक दिनों तक जिला पुलिस एवं कोबरा के बटालियन ने  सहिया, करीबा, डोभा, लड़ूईयां, बंदी, अंजनवां, मुर्गीडीह, बांसडीह एवं छकरबंधा के जंगली-पहाड़ी इलाके में लगातार सर्च ऑपरेशन चलाया। इस दौरान कई विस्फोटक पदार्थ भी बरामद किये गये।

रविवार को अपर पुलिस अधीक्षक(अभियान) मुकेश कुमार एवं केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(सीआरपीएफ) की 47वीं बटालियन के द्वितीय कमान अधिकारी महालय मनीष ने प्रेसवार्ता में बताया कि इस अभियान के दौरान ज्ञात हुआ कि नक्सलियों ने खुद को नये मैकेनिज्म से लैश कर रखा है, जिसका इस्तेमाल वे विस्फोटकों को बनाने में कर रहे है। इस वजह से पूरे ऑपरेशन के दौरान टीम को नक्सल प्रभावित इलाकें में हर कदम फूंक-फूंक कर रखना पड़ा। क्योकि कही भी नक्सलियों द्वारा जमीन के अंदर दबा कर रखे गये लैंड माइंस और आईईडी के ब्लास्ट करने का खतरा चारो ओर मौजूद था। इसके बावजूद टीम ने बेहद सतर्कता से काम किया और मौसम के अनुकूल रहने के कारण हमें नक्सलियों के खिलाफ बड़ी सफलता मिली।

उन्होंने कहा कि हमारी टीम नक्सलियों के हरेक ठिकानों तक पहुंची और वहाँ से  हथियार विस्फोटक पदार्थ बरामद कर उनके मंसूबे पर पानी फ़ेर दिया। नक्सलियों के द्वारा रॉकेट लांचर विकसित किया जा रहा था बरामद कर लिया गया। पूरे अभियान में 122 प्रेशर आईईडी बम, 548 सीरिज आईईडी बम, 534 केन आईईडी बम, 5 सिलेंडर आईईडी बम, 2 बम प्रक्षेप्य मोर्टार, 495 पीस नॉन इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 280 इलेक्ट्रिक डेटोनेटर, 317 मीटर कोडेक्स वायर, एक एयरगन राईफल, तीन नक्सली नारे लिखे बैनर, 10 पीस जहर बुझे तीर, ढ़ेर सारे बर्तन एवं खाने-पीने की वस्तुएं बरामद की गयी है। बरामद विस्फोटकों को मौके पर ही जलाकर और विस्फोट कर विनष्ट कर दिया। बरामद सामिग्रयों में दो बम प्रक्षेप्य मोर्टार और दस जहर बुझे तीरों का मिलने के अलग-अलग संकेत है।

इस मामले में मदनपुर थाना में भादवि की धारा-147, 148, 149, 353, 307, 120(बी), 25(1-बी)ए, 26/35 आर्म्स एक्ट, 16, 18, 13, 20 यूएपीए एक्ट एवं 3, 4, 5 विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत कांड सं.-369/22 दर्ज किया गया। मामले में 41 नामजद एवं 20 अज्ञात नक्सलियों को आरोपी बनाया गया है।

नामजदों में शीर्षस्थ नक्सली प्रमोद मिश्रा, विनय यादव, अभिजीत, अरूण पासवान, मनोहर गंझु, ललन भोक्ता एवं राजेंद्र यादव आदि शामिल है। इस छापेमारी अभियान के फलस्वरूप नक्सलियों का मनोबल काफी गिरा है। नक्सली गतिविधियों पर अंकुश लगाये जाने हेतु लगातार छापेमारी अभियान जारी है। कहा कि पुलिस नक्सलियों के खात्में को लेकर कृत संकल्पित है। प्रेसवार्ता में मुख्यालय डीएसपी-2 ललित नारायण मिश्रा एवं मदनपुर थानाध्यक्ष भी मौजूद रहे।

गौरतलब हो कि गया – औरंगाबाद के सीमावर्ती क्षेत्रों में नक्सलियों से कई बार सुरक्षा बलों की मुठभेड़ भी हो चुकी है। जिसमें सुरक्षा बलों के कई जवान घायल भी हुए थे। वहीं माओवादियों के शीर्ष नेता संदीप यादव की मौत के बाद नक्सलियों की कमर टूट गई है। वे किसी बड़ी घटना को अंजाम देना चाह रहे हैं ताकि लोगों में भय पैदा कर सकें । लेकिन उनके मंसूबों पर सुरक्षा बल पानी फ़ेर दे रहे हैं । बड़े पैमाने पर उनके हथियार जब्त कर लिये ज रहे हैं । जिससे भी उनकी कमर टूट गई है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.