Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: सांप ने किशोर को 15 दिन में तीन बार काटा, चौथी बार काटने की डर से घर से निकाला

0 466

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: अक्सर आपने सुना होगा कि नाग और नागिन बदला लेने के लिए पीछा करते हैं और उसे काटते हैं । लेकिन औरंगाबाद जिले में भी लोग कुछ इसी तरह की एक घटना से आश्चर्यचकित हैं । जिले में एक 14 वर्षीय किशोर को सांप ने पिछले दो हप्ते में तीन बार काटा है। अब लोगों को और उसके परिजनों को कुछ समझ में नहीं आ रहा है कि उसे बार-बार सांप क्यों काट रहा है।

दरअसल घटना औरंगाबाद जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के मंझार पंचायत के बिजोई गांव की है। जहाँ के निवासी रणजीत भगत के नाबालिग पुत्र नीरज कुमार के साथ पंद्रह दिन में 3 बार सांप काटने की घटना घट चुकी है। जब पहली बार उसे सर्पदंश के बाद इलाज के लिए सदर अस्पताल में लाया गया था तो स्थिति गम्भीर थी। प्राथमिक उपचार के बाद उसे मगध मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल गया रेफर कर दिया गया था, जहां से स्वस्थ होने के बाद उसे अस्पताल से विदा कर दिया गया था। लेकिन उसी के दूसरे दिन सुबह पुनः किशोर को उसी अवस्था में लाकर सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उसको उपचार के बाद घर भेज दिया गया था।

वहीं जब तीसरी बार 13 जुलाई को उसे अस्पताल ले जाया गया तो चिकित्सक भी किशोर को देखकर आश्चर्यचकित हो गए कि आखिर ऐसा कैसे हुआ क्योंकि 1 जुलाई को गाय को चारा डालते समय उसी किशोर को सांप ने काटा था, जिसका इलाज सदर हॉस्पिटल में किया गया था। परिजनों का कहना है कि पंद्रह दिन में तीसरी बार सांप ने काटा है। लेकिन अब लगातार सर्पदंश का शिकार हो रहे नीरज के परिजनों को किसी तंत्र मंत्र पर संदेह हो रहा है और इसी डर से उन्होंने बच्चे को उसकी बुआ के घर भेज दिया है।

हालांकि ” बिहार नेशन ” मीडिया  कभी भी अंधविश्वास का समर्थन नहीं करता है। जबकि ग्रामीण द्वारा इसे लेकर कई तरह की चर्चा की जारी है। कोई इसे नाग -नागीन का पीछा बता रहा है तो कोई इसे पुनर्जन्म से जोड़ रहा है। मतलब तरह-तरह की चर्चा लोगों के बीच इस घटना को लेकर की जा रही है। ग्रामीणों का यह भी कहना है सांप को मारने का प्रयास उसके दादा द्वारा की जा रही थी लेकिन उनसबो ने रोक दिया। अब चाहे जो बात हो। परिवारवाले चिंतित हैं । उनका भी कहना है कि सांप पीछा कर रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.