Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

डॉ. सुमंत राव- शिक्षक अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज निंदनीय, अतिथि सहायक प्रोफेसरों का भी हो समायोजन

0 201

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट 

बिहार नेशन: सोमवार को पटना में सातवें चरण की बहाली करने की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे शिक्षक अभ्यर्थियों पर निर्मम तरीके से लाठी चार्ज को करने लेकर एडवोकेट ऑफ जेएसडी कॉउंसिल के निदेशक सह प्रवक्ता डॉ. सुमंत राव उर्फ बबलु सम्राट ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए कहा कि शिक्षक अभ्यर्थियों पर लाठी चार्ज निंदनीय है । सरकार को स्पष्ट नीति बनानी होगी और उसे युवाओं तक संप्रेषित करनी होगी, ताकि बिहार के युवा असमंजस और ऊहापोह की स्थिति से बाहर आ सके।

उन्होंने कहा कि महागठबंधन का सरकार बिहार में बनने पर छात्र-युवा में खुशी का ठिकाना नही है । सबसे पहले बिहार के कॉलेज में कार्यरत अतिथि सहायक प्रोफेसर को समायोजन करना चाहिए । सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति में बिहारी अभ्यर्थियों की हकमारी एंव दूसरे प्रांतो के अभ्यर्थियों को फायदा पहुचाने के उद्देश्य से बने सहायक व्याख्याता की नियुक्ति संबंधी परिनियम-2020 के कारण बिहार राज्य के अधिकतम मूल निवासी अभ्यर्थी नियुक्ति की प्रक्रिया में साक्षात्कार से वंचित हो रहे है । विज्ञापन पर कई त्रुटियों है जिसका मामला माननीय उच्च न्यायालय में लंबित है ।

डॉ.सुमंत ने कहा कि माननीय उच्च न्यायालय ने यह आदेश निर्गत किए हैं जिसके कारण विश्विद्यालय सेवा आयोग द्वारा आयोजित साक्षात्कार का परिणाम के आधार पर नियुक्ति रद्द भी हो सकती है । उसके बावजूद शिक्षा माफियों के मिलीभगत से विश्वविद्यालय को नियुक्त करने का आदेश निर्गत किया है । जो गलत है। जब तक माननीय उच्च न्यायालय से कोई स्पष्ट निर्णय नहीं आ जाता तब तक के लिए विश्विद्यालय सेवा आयोग के द्वारा चयनित अभ्यर्थियों का शिक्षा विभाग नियुक्ति के लिए कोई पहल नही करे। क्योंकि दूसरी और अतिथि प्रोफेसर की नियुक्ति पूर्णतः यूजीसी पैटर्न पर हुई है । जिसका परिनियम में किसी प्रकार का कोई विशेष वेटेज नही दिया गया है जबकि अन्य राज्य में समायोजन किया गया है। यह नियमावली बिहारी अभ्यर्थियों को नुकसान पहुचाने के लिए राज्य के मुख्यसचिव से लेकर परिनियम बनाने में गठित तीन सदस्यीय में दो कुलपति जो अन्य राज्य के थे उसके द्वारा जानबूझकर बिहारी प्रतिभाशाली अभ्यर्थियों को बहाली प्रक्रिया से दूर रखने के लिए साजिश की गई है।

उन्होंने कहा कि वे इन खामियों की जानकारी प्रतिपक्ष के नेता के हैसियत से कई बार दे चुके है। माननीय उप मुख्यमंत्री श्री तेजस्वी यादव जी अपने विधानसभा चुनाव 2020 में आश्वासन दिए थे कि सरकार बनने पर नियमित करेंगे । वह शुभ मुहूर्त अब आ गया है । सेवन स्टार महागठबंधन सरकार कार्यरत अतिथि सहायक प्रोफेसर को नियमित करें। यह फैसला बहुत ही ऐतिहासिक होगा । समाजवादी विचारधारा का उच्च संस्थान में प्रभाव बढ़ेगा । जिससे सीधी तौर पर न्याय के साथ सामाजिक विकास होगा ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.