Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

राष्ट्रपति पद के लिए द्रौपदी मुर्मू ने किया नामांकन, पीएम मोदी बनें प्रस्तावक, कई राज्यों के सीएम भी रहे मौजूद

0 151

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने आज यानि शुक्रवार को नामांकन का पर्चा संसद में दाखिल कर दिया। पीएम मोदी उनके प्रस्तावक बनें तो रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अनुमोदक बने। जबकि जेडीयू की तरफ से पांच नेता ललन सिंह समेत प्रस्तावक बनें।
वहीं इस मौके पर कई अन्य राजनीतिक दिग्गज भी  मौजूद रहे जिनमें  गृह मंत्री अमित साह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह सहित कई राज्यों के सीएम और केंद्रीय मंत्री मौजूद रहे।

एनडीए गठबंधन से राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू ने 4 सेट का नामांकन भरा। पहले सेट में पीएम मोदी प्रस्तावक और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह अनुमोदक हैं। पहले सेट में 60 प्रस्तावक का नाम है और 60 अनुमोदक का। यानी इस तरह हर सेट में 120 नाम हैं। दूसरे सेट में बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा प्रस्तावक हैं।

इसके अलावा योगी आदित्यनाथ, हिमंता बिस्वा सरमा के अलावा बीजेपी शासित सभी एनडीए के मुख्यमंत्री प्रस्तावक हैं। तीसरे सेट में हिमाचल और हरियाणा के विधायक प्रस्तावक और अनुमोदक हैं। वहीं चौथे सेट में गुजरात के विधायक प्रस्तावक और अनुमोदक हैं। बीजू जनता दल और वाईएसआर ने भी सेटों पर हस्ताक्षर किए हैं।

द्रौपदी मुर्मू के नामांकन के दौरान एनडीए की एकजुटता भी नजर आई। द्रौपदी मुर्मू के नामांकन के दौरान बीजेपी नेताओं के अलावे जदयू, बीजद के नेता भी शामिल हुए। बीजद प्रमुख नवीन पटनायक और आंध्र के सीएम जगन मोहन रेड्डी द्रौपदी मुर्मू के समर्थन देने का ऐलान कर चुके हैं। वहीं बिहार से जदयू, चिराग पासवान, जीतनराम मांझी और पशुपति पारस ने भी समर्थन देने की घोषणा कर दी है। दरअसल 18 जुलाई को राष्ट्रपति का चुनाव है। एनडीए ने द्रौपदी मुर्मू को उम्मीदवार बनाया है। जबकि विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा को उम्मीदवार बनाया गया है।

गौरतलब हो कि राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू बहुत छोटे से पद से यहाँ तक पहुंची हैं । वे पार्षद से लेकर यहाँ तक का सफर तय की हैं । वे ओडिशा की आदिवासी समाज से आती हैं । साथ ही ओडिशा में भी कई पदों पर कार्य कर चुकी हैं । वे पहली झारखंड की महिला राज्यपाल भी रही हैं। बिहार के एनडीए की तरफ से लगभग राजनीतिक सहयोगी पार्टियों ने खुलकर अपना समर्थन उन्हें दिया है। सीएम नीतीश ने भी प्रसन्नता व्यक्त की है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.