Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

“जाप पार्टी” नेता समदर्शी ने जहरीली शराब से मौत पर  कारवाई के साथ मृतक के आश्रितों को 05 लाख रुपये देने की मांग की

0 307

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: औरंगाबाद जिले के मदनपुर थाना क्षेत्र के रानीगंज और सिंदुआरा में जहरीली शराब से तीन लोगों की मौत से जिले में दहशत का माहौल बन गया है । उक्त बातें जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के प्रदेश महासचिव संदीप सिंह समदर्शी ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा और आगे बताया कि तीन लोगों की मौत के बाद जिला प्रशासन की होश उड़ गई है । उन्होंने कहा कि इस मौत से जिले के नागरिक दहशत में हैं जबकि सूबे में लगातार जहरीली शराब से लोगों की मौत हो रही है। ऐसे में जिला प्रशासन को सजग और सावधान रहने की जरूरत थी। अब सरकारी महकमे में भी हड़कंप मच गया है।

समदर्शी ने इसे दुःखद घटना बताते हुए मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त की है और सरकार से मृतक के आश्रितों के लिए मुआवजे की मांग की है। उन्होंने कहा कि सूबे में शराबबंदी के बाद भी शराब मिलना आम बात हो गई है, जो शर्मनाक और निंदनीय है। सूबे में शराबबंदी कानून  लागू होने से अभी तक जहरीली शराब सेवन करने से हज़ारों लोगों की मौत हुई है। सूबे में शराब पर बेहतर समाज निर्माण के लिए सरकार कानून तो बना दिया लेकिन सरकारी नुमाइंदे की लापरवाही से जहरीली और अवैध शराब का गोरखधंधा जारी है। जब उपयोग करने वाले को शराब निर्माण की जानकारी है तो सरकार और पुलिस को क्यो नही ?

उन्होंने सवाल पूछा कि क्या सूबे में स्थानीय पुलिस प्रशासन-शराब माफिया गठजोड़ हावी है? अगर यह नही है तो ऐसे लोगों को आखिर संरक्षण कौंन दे रहा है।उन्होंने आमजनों से अपील करते हुए कहा कि लोगों को शराबमुक्त बिहार निर्माण के लिए आगे आना पड़ेगा तभी सूबे को शराबमुक्त की कल्पना की जा सकती है।समदर्शी ने मृतक के आश्रितों को पांच-पांच लाख रुपये सरकार से मुआवजे देने की मांग की है और दोषियो पर कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

शराब

जाप नेता ने मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए मृतक के परिजनों के लिए मुआवजे की मांग बिहार सरकार से की है।उन्होंने कहा कि,बिहार में शराबबंदी के बाद भी शराब मिलना और मौत होना जहां एक तरफ शर्मनाक है तो वहीं निंदनीय भी है। बिहार में पहले भी जहरीली शराब से कितनो को जान गंवानी पड़ी है।सरकार बिहार में शराब पर नियम बनाकर समाज हित मे बेहतर निर्णय लिया है लेकिन सरकार नुमाइंदे इसमे घोर लापरवाही बरत रहे हैं।

समदर्शी ने कहा कि पुलिस को ये मालूम है कि,शराब कहाँ बिक रही है और इसमे कौन लोग शामिल हैं।लेकिन प्रशासन की लापरवाही से कई लोगों की जाने जा रही है।उन्होंने सरकार से मृतक के परिजनों के लिए उचित मुआवजा की मांग की और जो भी इसमे दोषी हैं चाहे वो शराब बेचने वाले हों या पिलाने वाले उसके खिलाफ कड़ी कारवाई करते हुए कठोर से कठोर सजा दिया जाए। उन्होंने अपने क्षेत्रवासियों से अपील किया है कि,स्वच्छ और स्वस्थ समाज निर्माण के लिए शराबमुक्त समाज बनाने में सहयोग करें और अहम योगदान दें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.