Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

Raksha Bandhan 2022: बिहार में आज मनाया जा रहा है रक्षाबंधन, ये है शुभ मुहूर्त

0 205

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: भले ही सावन पूर्णिमा की शुरूआत
गुरुवार सुबह 9.35 बजे से हुई है लेकिन अधिकतर लोग रक्षाबंधन यानी राखी का त्योहार शुक्रवार 12 अगस्त  को ही मना रहे हैं। अगर वहीं पंचाग की बात करें तो मिथिला और बनारस पंचांग के मुताबिक राखी का त्योहार 12 अगस्त शुक्रवार को ही मनाने को लेकर एकमत हैं।

बनारस पंचांग के जानकार ज्योतिषाचार्य पीके युग कहते हैं कि 11 अगस्त को भद्रा लगने के कारण 12 अगस्त को उदयातिथि में रक्षाबंधन का त्योहार मनाना श्रेयस्कर होगा। इस बारे में पंचाग के आचार्यों का कहना है कि मिथिला पंचांग के अनुसार गुरुवार 11 अगस्त सुबह 9.42 बजे से पूर्णिमा चढ़ने के साथ ही भद्रा शुरू हो रहा है, जो रात 8.25 बजे समाप्त होगा। भद्रा काल में रक्षा सूत्र नहीं बांधा जा सकता है। इसलिए उदयातिथि में राखी बांधना ज्यादा शुभ है। ज्योतिषी संतोषाचार्य कहते हैं कि सूर्य जब कर्क राशि में होते हैं तो भद्रा का पृथ्वी पर विशेष प्रभाव पड़ता है। इसलिए भद्रा में शुभ कार्य वर्जित है।

वहीं बता दें इस पवित्र त्योहार के अवसर पर बहनें दोपहर तक राखी बांध सकेंगी। रक्षाबंधन का सबसे बढ़िया मुहूर्त 12 अगस्त को सूर्योदय से लेकर सुबह 7.24 बजे तक है। ऐसे 10.16 बजे तक राखी का बढ़िया मुहूर्त हैं। इसके बाद 11.54 बजे से दोपहर 1.32 बजे दोपहर तक राखी बंधवाना ज्यादा शुभ है।

एक ज्योतिषी कहते हैं कि रक्षाबंधन के लिए राखियों को पहले देवता को चढ़ाना चाहिए। राखी के शुभ मुहूर्त का ध्यान रखते हुए बहनों को 12 अगस्त को शुभ मुहूर्त में रक्षासूत्र को देवता पर चढ़ा देना चाहिए। बाद में भाई की कलाई पर इस सूत्र को दिन में भी बांधा जा सकता है। यह व्यवस्था उन बहनों के लिए है, जिनके भाई शुभ मुहूर्त में बहन के पास नहीं पहुंच पा रहे।

वहीं बता दें कि इस पावन त्योहार रक्षाबंधन के अवसर पर राज्य के सभी सरकारी स्कूलों में 12 अगस्त को ही छुट्टी दी गई है। जबकि सभी निजी स्कूलों ने भी 12 अगस्त को ही रक्षा बंधन की छुट्टी तय कर रखी है। वहीं
12 अगस्त को रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त सूर्योदय से लेकर सुबह 10.16 बजे तक और 11.54 बजे सुबह से लेकर दोपहर 1.32 बजे तक माना जा रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.