Bihar Nation
सबसे पहले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

बिहार: सरकारी स्कूल के हेडमास्टर को मिला 20 रूपये में बोरा बेचने का टास्क, पैसे जमा करना होगा खजाने में 

0 738

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: अब बिहार के शिक्षा विभाग ने नया फरमान जारी किया है कि सरकारी स्कूलों के हेडमास्टर 20 रूपये प्रति बोरा के हिसाब से बोरा बेचेंगे और उस पैसे को सरकारी खाते में जमा करेंगे। पहले हेडमास्टर पैसे को जिला में भेजेंगे और फिर जिला स्तर पर सारे पैसे को सरकारी खजाने में जमा कराया जायेगा। हेडमास्टर बोरा बेच रहे हैं या नहीं इसकी निगरानी भी की जायेगी।

दरअसल राज्य के हर स्कूल में मिड डे मिल के लिए अनाज जाता है। अनाज जिस बोरे में रख कर भेजा जाता है उसे हेडमास्टर को बेचने का टास्क दिया गया है। राज्य सरकार ने पहले कहा था कि मिड डे मिल के खाली बोरे को 10 रूपये के हिसाब से बेचना है। लेकिन अब सरकार को लग रहा है कि बोरे की कीमत बढ़ गयी है। लिहाजा हेडमास्टर को 20 रूपये में एक बोरा बेचने का निर्देश दिया गया है।

इस संबंध में शिक्षा विभाग के निदेशक मिथिलेश मिश्रा ने सभी जिलों को पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि पहले निदेश दिया गया था कि मध्याहन भोजन योजना अन्तर्गत आपूर्ति किये गये खाद्यान्न के खाली गनी बैग(बोरा) को 10 रूपये की दर से बिक्री किया जाये।

लेकिन बोरा का ये रेट 2016 में निर्धारित किया गया था। तब से अबतक गनी बैग (बोरा) की दर में वृद्धि हुई है. अतः उक्त के आलोक में सम्यक विचारोपरान्त निर्णय लिया गया है कि उपयोग किये गये प्रति गनी बैग (बोरा) को न्यूनतम 20 रूपये की दर से बिक्री किया जाय। इस बारे में सभी जिला कार्यक्रम पदाधिकारियों को निर्देश दे दिया गया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.