Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

Budget 2023: बजट से बिहार को मिला 4 एयरपोर्ट, 3 नर्सिंग कॉलेज और वंदे भारत एक्सप्रेस, और भी बहुत कुछ…जानें

0 294

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने केंद्रीय बजट बुधवार को पेश किया। इस बजट से बिहार के लोगों को भी काफी आशाएं थी। तो केंद्रीय नेतृत्व ने भी बिहार के लोगों को निराश नहीं किया है। इस बजट में बिहार को भी कई सौगात दी गई है। आम बजट 2023 के मुताबिक बिहार के तीन मेडिकल कॉलेजों में नर्सिंग कॉलेज खुलेंगे। साल 2014 के बाद बिहार के तीन शहरों बेतिया, मधेपुरा और पूर्णिया में मेडिकल कॉलेज खुले हैं जहां अभी बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई नहीं हो रही है।

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की घोषणा अगर जमीं पर उतरी तो इन तीनों मेडिकल कॉलेजों में बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई हो सकेगी। इसके साथ ही केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा संसद में पेश केंद्र सरकार के बजट में की गई घोषणा के मद्देनजर बिहार के चार शहरों में एयरपोर्ट चालू होने की उम्मीदें बढ़ी हैं। वहीं, एक-एक अन्य घोषणा के तहत बिहार के सात जिलों के 1517 सीमावर्ती गांवों में पर्यटकीय सुविधाओं का विकास होगा।

साल 2014 के बाद बिहार के पावापुरी में भी मेडिकल कॉलेज खुला हैं। लेकिन यहां बीएससी नर्सिंग की पढ़ाई अभी जारी है। इसलिए बजट की घोषणा मात्र तीन शहरों में खुले मेडिकल कॉलेज पर ही लागू होंगे। इन तीन कॉलेजों में से प्रत्येक में कम से कम 100-100 सीटों पर पढ़ाई होगी। वैसे केंद्र सरकार चाहे तो इससे भी अधिक सीटों पर नामांकन की स्वीकृति दे सकती है। बजट में प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आयुष्मान के आवंटन को 6427 करोड़ से बढ़ाकर 7200 करोड़ कर दिया है।

आयुष्मान योजना के दायरे में बिहार के एक करोड़ आठ लाख परिवार आते हैं। आवंटन में वृद्धि का लाभ बिहार के आयुष्मान लाभार्थियों को भी मिलेगा। हालांकि आवंटन देखें तो एक व्यक्ति पर 154 रुपए ही खर्च होंगे।

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचएम) के बजट में भी वृद्धि की गई है। चालू वित्तीय वर्ष में एनएचएम का बजट 33708 करोड़ का था जिसे बढ़ाकर 36 हजार 785 करोड़ कर दिया गया है। इसके तहत स्वास्थ्य विभाग की दर्जन भर से अधिक योजनाएं क्रियान्वित होती है। इसमें सभी तरह के टीकाकरण, कई बीमारियों के उन्मूलन से संबंधित कार्यक्रम शामिल हैं। बजट में वर्ष 2047 तक देश को एनीमिया मुक्त करने की घोषणा की गई है। ऐसे में अगर इस तरह की योजना राष्ट्रव्यापी तौर पर शुरू होगी तो इसका लाभ बिहार के लोगों को भी मिलेगा और राज्य एनीमिया मुक्त हो जाएगा।

वहीं घरेलू और अंतरराष्ट्रीय पर्यटन के लिए चैलेंज मोड के माध्यम से देश के 50 पर्यटन स्थलों का चयन किया जाएगा। जिसमें बोधगया, राजगीर जैसे शहरों का चयन इस योजना के तहत किया जा सकता है। बजट में पीपीपी मोड में पर्यटक स्थलों को विकसित करने की घोषणा की गई है। इससे राज्य के पर्यटक स्थलों पर और सुविधाएं बढ़ेंगी।

बजट में देशभर में 50 नए एयरपोर्ट और हेलीपैड बनाने की घोषणा की गई है। इससे बिहटा, भागलपुर, पूर्णिया और गोपालगंज में एयरपोर्ट शुरू होने की आस बढ़ी है। बिहार इसको लेकर मांग करता रहा है। पूर्णिया व बिहटा एयरपोर्ट के लिए राज्य सरकार ने भूमि अधिग्रहण भी कर ली है। इसकी जानकारी केंद्र को दे दी है। गोपालगंज में सबेया एयरपोर्ट मिलिट्री एयरपोर्ट रहा है, जिसे नये सिरे से चालू करने की योजना है। वहीं, भागलपुर एयरपोर्ट से घरेलू विमान सेवा शुरू कराने का केंद्र के पास प्रस्ताव भेजा गया है।

बजट में वाइब्रेंट विलेज प्रोग्राम की घोषणा की गई है। इसके तहत राज्य के सात जिले पूर्वी चम्पारण, पश्चिमी चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी, सुपौल, अररिया व किशनगंज के सीमावर्ती गांवों में पर्यटकीय सुविधाओं का विकास होगा। बिहार में अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे सात जिले भारत-नेपाल की 735.92 किमी की लंबाई में अवस्थित है। इन सात जिलों के 33 प्रखंडों के 1517 गांव सीमावर्ती इलाके में हैं। इन गांवों में पर्यटकीय सुविधाएं बढ़ी तो 7251 वर्गकिमी में बसे 60 लाख से अधिक आबादी को लाभ होगा।

वहीं, पटना से हावड़ा के लिये वंदे भारत एक्सप्रेस चलाने का एलान भी हुआ है। दरअसल पहली वंदे भारत ट्रेन पटना से हावड़ा रूट पर और दूसरी ट्रेन वाराणसी से गया के रास्ते हावड़ा के लिए चलेगी। यहां बता दे कि वर्तमान में पटना से हावड़ा के लिए दूरंतो व जनशताब्दी एक्सप्रेस सहित कुछ ट्रेनें चलती हैं। वहीं वंदे भारत ट्रेन दूरंतों व जनशताब्दी की तुलना में तेज चलेगी और यात्रियों को कम समय में ही गंतव्य स्टेशन तक पहुंचायेगी

Leave A Reply

Your email address will not be published.