Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

CBSE Result Xth Class: मदनपुर के घोरहत मोड़ निवासी शिक्षक रंजन गुप्ता के पुत्र पीयूष ने लाया महेश एकेडमी में टॉप रैंक

0 342

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: CBSE बोर्ड से दसवीं कक्षा के रिजल्ट को आए भले ही दो दिन हो गये हैं लेकिन अभी भी सफल छात्रों के घरों में खुशी का माहौल है। कई ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चों ने भी सीबीएसई बोर्ड के दसवीं वर्ग की परीक्षा में सफलता का परचम लहराया है। इसके साथ-साथ स्कूल में टॉप रैंक लाकर अपने जिले के क्षेत्र और स्कूल का नाम भी रौशन किया है। ऐसे ही एक छात्र हैं औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड के घोरहत मोड़ निवासी पीयूष कुमार। उन्होंने औरंगाबाद जिले में स्थित महेश एकेडमी स्कूल से दसवीं कक्षा में टॉप रैंक लाया है। उन्हें इस परीक्षा में 94 फीसदी से अधिक अंक मिले हैं। इसे लेकर घर में खुशी का माहौल है।

वहीं परिणाम आने के बाद से ही अब छात्र-छात्राएं अपने भविष्य का खाका तैयार करने में जुट गए हैं । किसी को डाक्टर बनना है, तो कोई इंजीनियर बनना चाहता है। वहीं स्कूल टॉपर छात्र पीयूष कुमार से बात की गई तो उन्होंने बताया कि उनकी प्राथमिकता डॉक्टर बनना है। वे इसकी तैयारी में भी जुटे हुए हैं। मेहनत पर भरोसा है। बता दें कि छात्र पीयूष कुमार जिले के मदनपुर प्रखंड के घोरहत मोड़ निवासी हैं। उनके पिता रंजन कुमार गुप्ता मध्य विद्यालय, नीमा में शिक्षक हैं और माता गृहणी हैं।

छात्र पीयूष कुमार

छात्र पीयूष ने अपनी आपबीती बताते हुए कहा कि
उनके दसवीं वर्ग के परीक्षा के ठीक दो माह पहले उनके दादा जगदेव प्रसाद का निधन हो गया। जिसके कारण पूरा परिवार सदमें में रहा। फिर भी उन परिस्थितियों में वे तैयारी करते रहे। अब जब परीक्षा का परिणाम आया है तो वे बेहद खुश हैं। वे लक्ष्य के प्रति जुटे हैं। पीयूष के परिजनों ने बताया कि वह शुरू से ही मेधावी छात्र रहा है। उसकी प्रारंभिक शिक्षा महेश एकेडमी से ही हुई है।

बहरहाल सफल छात्र व छात्राओं के चेहरे पर खुशी झलक उठी है। वे परीक्षा में इस सफलता के बाद परीक्षार्थी आगे की पढ़ाई की तैयारी में जुट गए हैं। गौरतलब हो कि सीबीएसई ने शुक्रवार को परीक्षा परिणाम जारी किया है। वहीं परीक्षा के परिणाम आने के बाद से ही शहर से लेकर ग्रामीण इलाकों तक के स्कूलों के छात्र-छात्राओं में खुशी है। रिजल्ट घोषित होने के बाद छात्र-छात्राओं के घरों में मिठाइयां बांटी गईं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.