Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

DM सौरभ जोरवाल ने किया सदर अस्पताल के निकट बन रहे GNM एवं पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट के कार्य का निरीक्षण

0 111

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: सोमवार यानी आज जिला पदाधिकारी, श्री सौरभ जोरवाल द्वारा सदर अस्पताल के निकट निर्माणाधीन आवासीय जीएनएम एवं पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट के कार्य की प्रगति का निरीक्षण किया गया। उक्त भवन का निर्माण 20.48 करोड़ की लागत से सदर अस्पताल के दूसरी ओर बीएमएसआईसीएल के माध्यम से किया जा रहा है।

बिहार नेशन मीडिया

विदित है कि जीएनएम एवं पैरामेडिकल इंस्टिट्यूट का निर्माण 2 साल के भीतर पूर्ण करने का लक्ष्य था जिसके अनुसार कार्य समाप्ति की तिथि 30 अक्टूबर 2023 है। निर्माण कार्य पूर्ण होने के पश्चात इंस्टिट्यूट में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं यथा जीएनएम, एलटी एवं अन्य पैरामेडिकल प्रशिक्षु सदर अस्पताल में प्रशिक्षण के दौरान चिकित्सीय कार्य में सहयोग भी प्रदान करेंगे जिससे सदर अस्पताल में स्किल्ड पैरामेडिकल स्टाफ की संख्या एवं उपचार की गुणवत्ता को भी बढ़ाया जा सकेगा। इसके निर्माण से सदर अस्पताल, औरंगाबाद के प्रबंधन एवं चिकित्सीय व्यवस्था में अपेक्षित सुधार होगा।

उक्त भवन में मुख्य तौर पर 3 भवन बनने हैं। वर्तमान में दो भवन में कार्य चल रहा है। एक भवन की नींव स्थल में पानी भरा है जिसके कारण इसका कार्य बरसात के पश्चात प्रारंभ होगा। निरीक्षण के दौरान मजदूरों की संख्या कम पाई गई एवं अपेक्षित गति का अभाव पाया गया। संवेदक द्वारा बताया गया कि त्यौहार के कारण संख्या कम है, 10 सितंबर के बाद 50 से अधिक संख्या में मजदूर कार्य करने लगेंगे। इस पर जिला पदाधिकारी द्वारा डीपीएम हेल्थ मनोज कुमार को बीएमएसआईसीएल के एजीएम को अगले सप्ताह बुलाने का निर्देश दिया गया और कहा गया कि 10 सितंबर के पश्चात वे पुनः कार्य की प्रगति देखने आयेंगे।

जिला पदाधिकारी द्वारा नक्शे के अनुसार हो रहे कार्य की भी जांच की गई। भवन के बाउंड्री को लेकर संवेदक को स्पष्ट रूप से ज्ञात नही था जिस पर जिला पदाधिकारी द्वारा बीएमसीआईसीएल के साथ बैठक बुलाने का निदेश दिया।

जिला पदाधिकारी द्वारा भवन के प्रत्येक हिस्से के कार्य को देखा और गुणवत्ता बनाए रखने के लिए कहा। साथ ही सिविल सर्जन को लगातार भ्रमण करने एवं कार्य की गति बनाए रखने के लिए निदेशित दिया।

Leave A Reply

Your email address will not be published.