Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

नीतीश कुमार से मिले उपेंद्र कुशवाहा, नये समीकरण की चर्चा तेज

बिहार में एक बार फिर से विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक सियासत तेज हो गई है। एक तरफ जहाँ जेडीयू अपनी कम सीटों को लेकर हार की समीक्षा कर रही है

0 114

 

BIHAR NATION : बिहार में एक बार फिर से विधानसभा चुनाव के बाद राजनीतिक सियासत तेज हो गई है। एक तरफ जहाँ जेडीयू अपनी कम सीटों को लेकर हार की समीक्षा कर रही है तो दूसरी तरफ रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ हाल में हुई मुलाकात के बाद नये समीकरण बनने की अटकलें तेज हो गई हैं ।

साथ ही विधान परिषद की मनोनयन कोटे की दर्जन भर सीटों को भरे जाने को लेकर भी सरगर्मी तेज हो गयी है, तो दूसरी ओर जेडीयू कुछ दिग्गज नेताओं को पार्टी में लाकर पिछड़े और मुस्लिम वोटरों के बीच पैठ जमाने की कोशिश में है। इसी परिप्रेक्ष्य में मुख्यमंत्री से उपेंद्र कुशवाहा की मुलाकात को जोड़ कर देखा जा रहा है। जबकि उपेंद्र कुशवाहा फिलहाल किसी नये राजनीतिक समीकरण बनने की संभावना से इन्कार कर रहे हैं।

मालूम हो कि इस बार के बिहार विधानसभा चुनाव में रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने बसपा और एआइएमआइएम के साथ गठबंधन किया था । लेकिन एक भी सीट उनकी पार्टी नहीं जीत पाई । अब राजनीतिक जानकार इस मुलाकात को जेडीयू की कुशवाहा वोट को और मजबूत करने की दृष्टि से देख रहे हैं । जेडीयू की नजर राजद के एक वरिष्ठ मुस्लिम नेता पर भी टिकी है जिसे मुस्लिमों के बीच पैठ बनाने से जोड़कर देखा जा रहा है। जेडीयू को इस बार 2015 के मुकाबले 28 सीटों का नुकसान हुआ है।

आपको बता दे की राज्य में लोकसभा, विधानसभा व राज्यसभा की सभी सीटें भर गयी हैं. सिर्फ विधान परिषद की 18 सीटें खाली हैं, जिनमें 12 मनोनयन कोटे की और दो विधानसभा कोटे की सीटें हैं. चार स्थानीय प्राधिकार कोटे की सीटें हैं, जिनके लिए अगले साल चुनाव होगा । यहीं से उपेंद्र कुशवाहा का रास्ता विधानमंडल के सदस्य बनकर खुल सकता है।

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.