Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

लालू यादव को एक और झटका! पटना कोर्ट ने प्रोडक्शन वारंट जारी कर जेल में बंद लालू प्रसाद को पेश होने को कहा

0 342

 

जे.पी. चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: राजद सुप्रीमों लालू प्रसाद यादव की मुश्किलें घटने का नाम नहीं ले रही है। अब एक बार फिर से उनकी मुश्किलें बढ़ने वाली है। उनके खिलाफ चारा घोटाला से जुड़ा एक मामला पटना सिविल कोर्ट स्थित सीबीआई अदालत में चल रहा है। इस केस में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव समेत तीन आरोपियों को उपस्थित करने के लिए प्रोडक्शन वारंट जारी करने का आदेश कोर्ट ने दिया है। इस मामले की अगली सुनवाई 25 फरवरी को होगी।

चारा घोटाला के आरसी 63 ए, 1996 से जुड़ा यह मामला भागलपुर व बांका कोषागार से फर्जी विपत्र पर लाखों की निकासी का है। सीबीआई के विशेष न्यायाधीश की अदालत में बुधवार को मामले की सुनवाई हुई। वहीं सुनवाई के दौरान तीनों के वकीलों ने कोर्ट को आवेदन देकर कहा कि रांची सीबीआई कोर्ट ने चारा घोटाला के एक मामले में उन्हें दोषी करार दिया है। वे न्यायिक हिरासत में हैं। उसके बाद अधिवक्ताओं ने इस मामले में उन्हें पेश होने के लिए प्रोडक्शन वारंट जारी करने का अनुरोध किया। इसके बाद कोर्ट ने प्रोडक्शन वारंट जारी करने का आदेश दिया।

चारा घोटाला का यह मामला अभियोजन साक्ष्य पर चल रहा है। आरसी 63ए, 1996 के इस मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद समेत 19 आरोपी हैं। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद, पूर्व सांसद जगदीश शर्मा, पूर्व सांसद आरके राणा, नौकरशाह बेक जुलियस, फूलचंद सिंह समेत पटना सीबीआई की विशेष अदालत में ट्रायल चल रहा है। इस मामले में सीबीआई के विशेष लोक अभियोजक आरएन सिंह अबतक कुल 76 अभियोजन गवाह पेश कर गवाही करा चुके हैं।

पिछले दिनों इस मामले में 76वें सीबीआई के गवाह पशुपालन विभाग के पूर्व निदेशक केके श्रीवास्ताव ने गवाही दी थी। चारा घोटाला के इस मामले में सीबीआई ने लालू प्रसाद समेत कुल 44 आरोपियों पर चार्जशीट दायर की थी। ट्रायल के दौरान 25 आरोपियों की मृत्यु हो गयी है। सीबीआई की विशेष अदालत ने मृत आरोपियों के खिलाफ ट्रायल बंद कर दिया है।

आपको बता दें कि फिलहाल लालू यादव रिम्स के पेइंग वार्ड में एडमिट हैं। उनकी सेहत का ख्याल रखने के लिए मेडिकल टीम का गठन किया गया है। बुधवार को उनका मेडिकल चेकअप भी किया गया था । वे डोरंडा कोषागार से अवैध निकासी मामले में दोषी करार दिये गये हैं ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.