Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: मतदान समाप्त होते ही कई राउंड की फायरिंग शुरू,जमकर चले लाठी-डंडे और रॉड,मुखिया पति सहित कई घायल

0 531

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बिहार पंचायत चुनाव में सातवें चरण का मतदान क्या समाप्त हुआ औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड अंतर्गत  घोड़ा डिहरी पंचायत के आंट गांव में दो प्रत्याशियों के बीच फायरिंग और जमकर मारपीट हुई । इसमें कई की हालत गंभीर बताई जा रही है।

पिस्तौल

मिली जानकारी के मुताबिक वोटिंग समाप्त होते ही इस पंचायत से मुखिया पद का चुनाव लड़ रही देवजरा निवासी पम्मी देवी के देवर पवन सिंह उर्फ बाबू ने 50 की संख्या में समर्थकों के साथ प्रतिद्वंदी उम्मीदवार शोभा देवी के पति प्रेमचंद शेखर उर्फ पवन सिंह और उनके समर्थकों पर जानलेवा हमला बोल दिया।इस दौरान पवन उर्फ बाबू के समर्थकों ने न केवल विरोधी पक्ष पर जमकर लाठी डंडे एवं लोहे की रॉड बरसाए बल्कि दर्जनों राउंड फायरिंग भी की।

मारपीट

गोलीबारी में प्रेमचंद शेखर की जान तो बच गई, लेकिन लाठी डंडे और रॉड की पिटाई से वह गंभीर रूप से घायल हो गय है। घटना में करीब दर्जन भर लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिनका इलाज मदनपुर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और औरंगाबाद के सदर अस्पताल में चल रहा है। घायलों में दो की हालत गंभीर बताई जा रही है।

बिहार नेशन

औरंगाबाद सदर अस्पताल में भर्ती घायल प्रेम चंद शेखर बबलू सिंह एवं फागुनी भुईयां ने बताया कि पवन उर्फ बाबू ने अपने 40-45 समर्थकों के साथ उन पर जानलेवा हमला बोला है।

पुलिसकर्मी

घायलों ने बताया कि मुखिया उम्मीदवार शोभा देवी के पक्ष में हुए भारी मतदान से पवन ने बौखला कर इस हमले को अंजाम दिया है। उन्हें पहले से ही हमले की आशंका थी। इसी वजह से उन्होने पहले ही पुलिस और प्रशासन को जानकारी दी थी, पर उनकी बातों का नोटिस नहीं लिया गया और प्रतिद्वंदी पक्ष ने हमला बोल दिया।

पंचायत चुनाव

बहरहाल पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है। वहीं स्थिति को तनावपूर्ण देखते हुए औरंगाबाद के पुलिस कप्तान कांतेश कुमार मिश्रा एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी गौतम शरण ओमी ने दल बल के साथ गांव में कैम्प कर रखा है।

घायलों से मिलने सदर अस्पताल पहुंचे पूर्व मंत्री रामाधार सिंह ने घटना को लेकर पुलिस पर निशाना साधते हुए कहा कि छोटी घटनाएं ही बड़ी घटना का कारण बन जाती है। आज से करीब 15 साल पहले भी चुनावी रंजिश में ही इसी इलाके में बहुचर्चित देवजरा कांड जैसी घटना हुई थी।

क्राइम

गौरतलब है कि हमलावर पक्ष देवजरा कांड का ही पीड़ित परिवार है, जो नक्सलियों के निशाने पर रहा है और आज से करीब डेढ़ दशक पहले नक्सलियों ने इसी परिवार के मुखिया अशोक सिंह समेत उनके आधा दर्जन समर्थको को वाहन में ही गोली मारने के बाद जलाकर मौत के घाट उतार दिया था, जो उस वक्त जिला पार्षद पद का चुनाव लड़ रहे थे। इस मामले में पुलिस यदि सख्ती नहीं दिखाती है तो देवजरा कांड जैसी घटना की पुनरावृति से इंकार नहीं किया जा सकता।

पंचायत चुनाव

आपको बता दें कि बिहार में बिहार में पंचायत चुनाव की प्रक्रिया चल रही है। 15 नवंबर को सातवें चरण का मतदान संपन्न हुआ । इसकी मतगणना 17 नवंबर को होनी है। लेकिन त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर कई जगहों से चुनावी रंजिश में मारपीट या हत्या की खबरें निकलकर सामने आ रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.