Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: मदनपुर प्रखंड के TET शिक्षकों का वेतन भुगतान को लेकर अनिश्चितकालीन धरना जारी

बिहार में नीतीश कुमार चाहे लाख दावे कर लें लेकिन व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है।

0 250

 

 

BIHAR NATION : बिहार में नीतीश कुमार चाहे लाख दावे कर लें लेकिन व्यवस्था सुधरने का नाम नहीं ले रही है। कुछ ऐसी ही खबर औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड के शिक्षकों से जुड़ी हुई आ रही है। जहाँ खबर है कि मदनपुर प्रखंड के TET पास नियोजित शिक्षकों ने कई महीने से वेतन भुगतान न होने के कारण दानी बिगहा, बस स्टैंड (औरंगाबाद) में अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे हैं । वृहस्पतिवार को इन शिक्षकों के धरने का दूसरा दिन है। लेकिन अभी तक इनकी समस्याओं को सुनने कोई भी पदाधिकारी नहीं आए । शिक्षकों का कहना है कि सरकार हमलोगों से सभी प्रकार के सरकारी कार्य लेती है जो अन्य शिक्षक करते हैं लेकिन वेतन देने में भेदभाव किया जा रहा है। हमसभी का भी बकाया वेतन भुगतान किया जाए।

शिक्षकों ने कहा कि पठन-पाठन एवं चुनाव से लेकर कोरोना काल में भी हमलोगों ने सभी शिक्षकों की तरह सेवा दी। लेकिन हमलोगों को वेतन केवल चार महीने का ही दिया गया है। जबकि वें विगत 7 वर्षों से शिक्षण एवं अन्य कार्य करते आ रहे हैं । शिक्षकों ने बताया कि वेतन भुगतान संबंधी आदेश राज्य अपीलीय प्राधिकार, पटना के निर्देश पर जिला अपीलीय प्राधिकार, औरंगाबाद द्वारा कई बार दिया गया है, लेकिन वेतन का भुगतान नहीं किया जा रहा है। जिससे हमलोगों का परिवार भुखमरी के कगार पर पहुंच चुका है।

इस संबंध में शिक्षकों ने बताया कि हमलोगों ने जिला पदाधिकारी,उप विकास आयुक्त, जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (स्थापना) से लेकर स्थानीय सांसद एवं विधायक तक से गुहार लगाकर थक चुके हैं लेकिन कोई नहीं सुनता। शिक्षकों ने कहा कि हम सभी शिक्षक सरकार एवं पदाधिकारियों से माँग करते हैं कि हमलोगों की समस्याओं पर ध्यान देकर वेतन का भुगतान किया जाए ।

इस मौके पर धरना-प्रदर्शन में बैठे शिक्षकों में
कामेश्वर कुमार,मनीष कुमार,सुनील कुमार यादव,शशिकांत पांडेय,संजय कुमार सुमन,संतोष कुमार रौशन,उपेंद्र कुमार यादव,मून जी कुमार,उदय नारायण चौबे,सुबोधकांत, सुजीत कुमार गुप्ता,शिखा कुमारी, किरण कुमारी,नीलम कुमारी, रजनीश कुमार नीरज एवं अन्य उपस्थित रहे।

Leave A Reply

Your email address will not be published.