Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: 560 लीटर स्प्रीट के साथ एक गिरफ्तार, इनोवा भी जब्त वहीं एक अन्य मामले में अवैध शराब कारोबारी गिरफ्तार

0 70

 

बिहार नेशन: बिहार में शराब का कारोबार धड़ल्ले से जारी है। प्रशासन के तमाम दावों के बीच लोग इसका व्यापार करने से बाज नहीं आ रहे हैं । ताजा मामला औरंगाबाद जिले के नगर थाना से जुड़ा है। जहाँ नगर थाने की पुलिस द्वारा दो लोगों को शराब के मामले में गिरफ्तार कर बुधवार को जेल भेज दिया गया। बता दें की जिले में इस तरह की घटनाएं प्रतिदिन मिल रही है।

गिरफ्तार

इस मामले में थानाध्यक्ष अंजनी कुमार ने बताया कि एक आरोपी की पहचान थाना क्षेत्र के कालीबाड़ी के समीप रहने वाले सतीश कुमार के रूप में की गई है जिसके पास से 5 बोतल बीयर एवं एक बोतल इंपीरियल ब्लू शराब बरामद किया गया है जबकि वही दूसरे ठाकुरबाड़ी रोड शाहपुर के रौशन सिंह के रूप में की गई है जिसके पास से 71 बोतल टनाका देशी शराब बरामाद किया है। इन दोनों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज़ कर जेल भेज दिया गया।

वहीं एक अन्य मामले में जिले की अंबा थाने की पुलिस द्वारा शराब में लिप्त एक व्यक्ति को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।  थानाध्यक्ष जैनेंद्र कुमार भारती ने बताया कि वाहन जांच के दौरान एक इनोवा कार को रोक कर जांच किया गया जिसमें 16 गैलन स्प्रीट मिला। जिसमें  प्रत्येक गैलन में 35 लीटर मतलब कुल 560 लीटर स्प्रीट बरामाद किया गया। इसके बाद कार सवार को गिरफ्तार कर पूछ ताछ की गई जिसमें उसने खुद को दाउदनगर थाना क्षेत्र के कटरिया गांव निवासी विकास कुमार के रूप में स्वीकार  किया है जिसके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज़ कर जेल भेज दिया गया।

वहीं एक अन्य घटना में जिले की पुलिस ने नबीनगर व माली थाने की पुलिस द्वारा संयुक्त रूप से नबीनगर थाना क्षेत्र के जनकपुर पोखरा के समीप छापेमारी की जिसमें पूर्व के कांड में नामजद अभियुक्त मदन राम समेत कुल आठ लोग को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। जानकारी के मुताबीक हाल ही में नबीनगर थाना क्षेत्र के जनकपुर पोखरा के एक स्थानीय व्यक्ति को शराब के मामले में लिप्त पाये जाने पर नबीनगर पुलिस उसे पकड़ने गई थी, इसी दौरान वह बचने के उदेश्य से उक्त पोखरा में छलांग लगा दिया और डूबने से उसकी मौत हो गई थी जिसको लेकर गुस्साए लोगों ने पुलिस के खिलाक सड़़क जाम और मुआवजे की मांग कर रहे थे।

इसी क्रम में सूचना पर मामले को नियंत्रित करने घटना स्थल पर पहुंची माली थाने की पुलीस गाड़ी को उग्र लोगों ने आग लगा दी गई थी जिससे गाड़ी जल गई थी। माली थानाध्यक्ष पवन कुमार ने बताया कि नबीनगर थाना काण्ड संख्या 189/21 के तहत एक प्राथमिकी दर्ज़ की गई थी जिसमें ये सभी नामजद अभियुक्त बनाये गये थे। उसी समय से मामले की छानबीन की जा रही थी। इसी क्रम में इनके विरुद्ध बीते रात्रि संयुक्त छापेमारी की गई जहाँ से ये सभी गिरफ्तार कर जेल भेज दिये गये और अन्य लोगों की छानबीन की जा रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.