Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

Aurangabad: सुजीत मेहता हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, 5 आरोपी गिरफ्तार, 12 लाख में हुई थी डील

0 666

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: औरंगाबाद जिले के अंबा थाना क्षेत्र के दधपा गांव निवासी सुजीत मेहता हत्याकांड का पुलिस ने उद्भेदन कर लिया है। इसके साथ ही पुलिस ने इसमें संलिप्त 5अपराधियों को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। जबकि अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है।

एसपी कांतेश मिश्र

शनिवार को पुलिस अधीक्षक कांतेश कुमार मिश्र ने बताया कि सुजीत मेहता हत्याकांड में तकनीकी अनुसंधान के क्रम में साक्ष्यों के आधार पर पांच अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इनसे पूछताछ में पता चला है कि सुजीत मेहता की हत्या 12 लाख रुपये में डील की गई थी। उसकी हत्या की साजिश होली से ही रची गई थी जो अब जाकर अंजाम दिया गया ।

गिरफ्तार अभियुक्तों में गया ज़िले के वजीरगंज थाना अंतर्गत चुल्हाई बिगहा निवासी धर्मेंद्र सिंह के पुत्र 25 वर्षीय शुभम सिंह, गढ़वा ज़िला के मझियाव थाना अंतर्गत कुनरहे गांव निवासी संजय पाण्डेय के पुत्र रौशन पाण्डेय, कुटुंबा थाना अंतर्गत दधपा बिगहा निवासी भोला मेहता के 24 वर्षीय पुत्र पुरूषोतम कुमार, बैकुण्ठ मेहता के 24 वर्षीय पुत्र रंजन कुमार, मदन मेहता के पुत्र 24 वर्षीय ब्रजेश कुमार शामिल हैं।

पुलिस अधीक्षक कांतेश कुमार मिश्र ने बताया कि पूर्व में मृतक सुजीत मेहता ने 23/8/2014 को अंबा थाना कांड संख्या 08/14 के मुन्ना सिंह उर्फ संजय सिंह और 22/12/13 को नवीनगर थाना कांड संख्या 180/13 को अप्राथमिक अभियुक्त रंजन मेहता के भाई राजू कुमार और पुरषोत्तम मेहता के भाई रंजीत मेहता को गोली मारकर हत्या करने का आरोप था।

एसपी ने आगे कहा कि पूर्व में जिला परिषद् प्रतिनिधि सुजीत मेहता इन आरोपों में जेल भी जा चुके है। मृतक मुन्ना सिंह के पुत्र आकाश सिंह और बाकी के सुजीत मेहता के गांव के ही रंजन कुमार और पुरषोत्तम मेहता ने प्रतिशोध के लिए सुजीत मेहता की हत्या की है । इस मामले में कई और नाम सामने आए है जिसकी पुलिस अनुसंधान कर रही है । जल्द ही बाकी के सभी आरोपियों को गिरफ्तार किया जाएगा ।

आपको बता दें कि अंबा थाना क्षेत्र के दधपा निवासी पूर्व जिला पार्षद सुमन देवी के पति सुजीत मेहता की 5अगस्त को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। वे बाजार से वापस घर लौट रहे थे तभी देर संध्या में हत्या कर दी गई थी। उनके साथ एक और व्यक्ति गांव का थी जो गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हो गया था। इसके बाद से ही पुलिस इस मामले की अनुसंधान में जुटी थी। पुलिस पर इस मामले को उद्भेदन करने का काफी दवाब था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.