Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद के लाल ने ऑटोमोबाइल कबाड़ से बना दी अद्भुत कलाकृति, देखकर दबा लेंगे दांतों तले उंगली, देखें तस्वीरें 

0 217

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: एक बहुत ही पॉपुलर शेर आपने जरूर सुना होगा कि  “खुदी को कर बुलंद इतना कि हर तकदीर से पहले खुदा बंदे से यह पूछे बता तेरी रजा क्या है।” यह शेर उर्दू के प्रसिद्ध शायर अल्लामा इकबाल का है। लेकिन यह शेर कई मायनों में एकदम फिट बैठता है। क्योंकि कुछ इसी तरह की कहानी औरंगाबाद जिले के क्लब रोड के निवासी एवं कलाकार शशिकांत ओझा का है जिन्होंने ऑटोमोबाइल स्क्रैप करके एक से एक अद्भुत कलाकृति बना दी है।

कलाकृति देखते डीएम सौरभ जोरवाल

शशिकांत ओझा पिछले 6 वर्षों से इसमें जुटे हैं।शशिकांत ओझा ने शहर के दानी बिगहा स्थित स्व सत्येंद्र नारायण सिन्हा पार्क में स्टील स्क्रैप से खूबसूरत एवं विशालकाय घोड़े का निर्माण किया जो पार्क की शोभा बढ़ा रही है।

उन्होंने जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल के प्रति आभार व्यक्त किया कि उन्होंने मेरे द्वारा निर्मित स्क्रैप कलाकृति की जानकारी मिलने पर अपने व्यस्त समय को निकालकर वे मेरे आवास पहुँचे और एक एक कलाकृति को देखा और इसकी सराहना की।

गौरतलब है कि गुमनामी के अंधेरे में जी रहे श्री ओझा को उनकी कलाकृति को पहचान दिलाने में औरंगाबाद के जिलाधिकारी सौरभ जोरवाल ने महती भूमिका निभाई। जिलाधिकारी ने कबाड़ से कलाकृति बनाने वाले श्री ओझा से मुलाकात की एवं उनके द्वारा बनाए गए कलाकृतियों के बारे में जानकारी प्राप्त की।

जिलाधिकारी ने बताया कि श्री ओझा औरंगाबाद के वे प्रतिभावान कलाकार हैं जिन्होंने फ्रेश एवं जंक मेटल पार्ट्स से कई कलाकृतियों की रचना कर मेक इन इंडिया को सही मायने में परिभाषित किया है। उनके द्वारा हाल ही में ऑटोमोबाइल पार्ट्स का उपयोग कर टाइगर बनाया गया है जो बिल्कुल ही मेक इन इंडिया की लोगो की तरह है।

जिलाधिकारी ने बताया कि इसके अतिरिक्त उनके द्वारा दानी बीघा पार्क में स्टेनलेस स्टील का हॉर्स, पटना इको पार्क में वॉल फिगर, पटना चिड़ियाघर में स्टेनलेस स्टील का बटरफ्लाई, एक अन्य स्थान पर बॉल बेयरिंग की गाय इत्यादि भी बनाई गई है। इसके अतिरिक्त उनके द्वारा जमशेदपुर में भी कई स्कल्पचर बनाए गए हैं।

बता दें कि ओझा इससे 6 वर्ष पहले जमशेदपुर में पहली बार ही स्क्रैप बॉल बेयरिंग से शंख बनाया था। इसकी काफी प्रसंशा टाटा स्टील कम्पनी के एक वरीय अधिकारी ने किया था। साथ ही उनकी कलाकृति को प्रदर्शनी में भी शामिल किया गया था जिसे लोगों ने काफी पसंद किया था।

Leave A Reply

Your email address will not be published.