Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

बड़ी खबर : शिक्षा मंत्री ने कहा- अगस्त के दूसरे सप्ताह से खुल सकते हैं सभी स्कूल

पहली से 10वीं कक्षाओं तक के सभी सरकारी एवं निजी प्रारंभिक और माध्यमिक विद्यालय अगस्त के दूसरे सप्ताह में खुलेंगे. इस बारे में शिक्षा मंत्री ने साफ़ संकेत दे दिया है

0 137

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन:  इस वक्त बिहार से एक बड़ी खबर सामने आ रही है. राज्य में पहली से 10वीं कक्षाओं तक के सभी सरकारी एवं निजी प्रारंभिक और माध्यमिक विद्यालय अगस्त के दूसरे सप्ताह में खुलेंगे. इस बारे में शिक्षा मंत्री ने साफ़ संकेत दे दिया है. शिक्षा मंत्री का कहना है कि  6 अगस्त तक बिहार में कई तरह की पाबंदियां लागू है. इसके पहले क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक होनी है जिसमें पहली बात दसवीं क्लास तक के बच्चों की पढ़ाई को लेकर फैसला लिया जा सकता है. मतलब साफ़ है कि अगस्त के पहले सप्ताह में यह क्लीयर हो जाएगा कि बिहार में स्कूल कब से खोला जाएगा.

फिलहाल राज्य सरकार ने जो फैसला किया है उसके तहत दसवीं से ऊपर के स्कूल और कॉलेज खोल दिए गए हैं. हालांकि परीक्षाओं पर अभी भी पाबंदी लगाई गई है. 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ ही शिक्षण संस्थान खुले हैं. कोचिंग जैसे संस्थानों को अभी भी बंद रखा गया है.  आपको बता दें कि दो दिन पहले इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च यानी आइसीएमआर में कहा था कि प्राइमरी सेक्शन के स्कूल पहले खोले जाने चाहिए क्योंकि बच्चों में कोरोना से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है.

वहीं आपको बता दें कि आइसीएमआर ने सेकेंडरी सेक्शन के स्कूल बाद में खोलने की सलाह दी थी. शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा है की आइसीएमआर की रिपोर्ट के मुताबिक देश में 60 फ़ीसदी लोगों के अंदर कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी डेवलप हो चुका है. यह भी सच है कि बच्चों की तुलना में कोरोना से ज्यादा खतरा वयस्कों को है. बच्चों के लिए स्कूल खोलने को लेकर आइसीएमआर में जब सहमति दी है तो बिहार सरकार भी इस पर विचार करेगी.

गौरतलब है कि बिहार में कोरोना संक्रमण के कारण बच्चों की पढ़ाई बाधित है. राज्य सरकार ने स्कूलों के खोलने पर पाबंदी लगा रखी है लेकिन जिस तरह से शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी का बयान आया है उससे स्पष्ट है कि प्राथमिक और माध्यमिक के स्कूलों को खोलने पर फैसला अगस्त के पहले सप्ताह में हो जाएगा. हालांकि इस बारे में अंतिम फैसला क्राईसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में ही लिया जाएगा. क्योंकि शिक्षा के साथ-साथ बच्चों का भविष्य भी देखना है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.