Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

सीटीईटी और बीटीईटी अभ्यर्थियों ने बहाली को लेकर जेडीयू, राजद और भाजपा कार्यालय में घुसकर किया हंगामा

0 102

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: अब शिक्षक बहाली को लेकर
CTET और BTET अभ्यर्थियों का धैर्य जवाब दे चुका है। वे लगातार बहाली नहीं होने के कारण प्रदर्शन कर रहे हैं । उनका प्रदर्शन लगातार जारी है। इस दौरान अभ्यर्थियों ने बिहार के तीन बड़ी पार्टियों के कार्यालय में घुसकर हंगामा किया है। अभ्यर्थियों ने राजद, जेडीयू और भाजपा के कार्यालयों में जाकर हंगामा किया ।

अभ्यर्थियों की मांग है कि बिहार में सातवें चरण की शिक्षक बहाली के लिए जल्द से जल्द नोटिफिकेशन जारी किया जाए ताकि उन्हें शिक्षक नियुक्ति हो सके। प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों का कहना है कि शिक्षा मंत्री और शिक्षा विभाग की ओर से अभी तक नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया है।

विभाग ने कहा था कि छठे चरण के बाद सातवें चरण का नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा, लेकिन अभी तक सातवें चरण का नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया है। ऐसे में शिक्षक बनने की चाहत भी सैकड़ों अभ्यर्थी हाथों में कटोरा लेकर सरकार से जल्द से जल्द शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया के लिए नोटिफिकेशन जारी करने की मांग कर रहे थे।

वही इतनी संख्या में शिक्षक अभ्यर्थियों की होने के कारण पार्टी कार्यालयों में व्यवस्था चरमराती हुई नजर आई। अभ्यर्थियों का कहना है कि शिक्षा मंत्री नहीं चाहते हैं कि इन छात्रों के लिए नोटिफिकेशन जारी हो। लगभग 100000 लोगों की संख्या में इन अभ्यर्थियों ने बताया है कि उन्होंने इसके लिए आवेदन भी किया था।

यहां बता दें कि बिहार में अब तक छह चरण के शिक्षकों की नियुक्ति हो चुकी है। अंतिम बार इस साल के शुरुआत में छठे चरण की नियुक्ति प्रक्रिया शुरू हुई थी। इसमें लगभग 50 हजार के करीब शिक्षकों की नियुक्ति की गई थी, जबकि बड़ी संख्या में ऐसे अभ्यर्थी भी थे, जिनकी नियुक्ति नहीं हो सकी।

वहीं काफी संख्या में स्कूलों में सीटें खाली रह गई थी। जिसके बाद सरकार की तरफ से यह घोषणा की गई थी नोटिफिकेशन जारी की जाएगी। लेकिन बिहार शिक्षा विभाग की तरफ से अबतक की गई कार्रवाई से अभ्यर्थियों का धैर्य अब टूटने लगा है।

गौरतलब हो कि 2012 से पास STET अभ्यर्थियों का भी माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूलों में अबतक नियोजन बहुत से अभ्यर्थियों का नहीं हुआ है। वे भी लगातार सीटों को बढाकर नियोजन की मांग करते आए हैं । लेकिन राज्य सरकार उनकी मांगों अनसुना करते आ रही है। साथ ही अभ्यर्थियों का आरोप है कि नीतीश सरकार केवल नियोजन के नाम पर चरण दर चरण का दिखावा कर रही है। अगर सीट ही नहीं रहेगा तो नियोजन कैसे होगी। नाम मात्र के बचे-खुचे सीटों पर नियोजन का दिखावा किया जाता है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.