Bihar Nation
सबसे पहले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद में पांच बच्चों की मौत से दहल उठा लोगों का दिल, मिला 4-4 लाख का मुआवजा, जनप्रतिनिधियों ने व्यक्त की संवेदना

0 420

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड अंतर्गत सलैया थाना क्षेत्र के पिरवां पंचायत के सोनरचक गांव में गुरुवार के दिन पांच बच्चों की पोखर में डूबने से असामायिक मौत हो गई। इस घटना के बाद परिजनों में हाहाकार मच गया। वहीं परिजनों ने मुआवजे को लेकर सड़क जाम कर दिया। घटना की सूचना पाकर सलैया थाना की पुलिस एवं मदनपुर प्रखंड विकास पदाधिकारी कुमुद रंजन पहुंचे जो मदनपुर प्रखंड के अंचलाधिकारी यानि सीओ के प्रभार में भी हैं ।

मिली जानकारी के मुताबिक मृतक बच्चों के परिजनों को आपदा राहत कोष से चार-चार लाख रुपये की राशि प्रखंड विकास पदाधिकारी की तत्परता से मिल गई है।

मृतकों में अनुज यादव का पुत्र शुभम ऊर्फ गोलू कुमार(11), उदय यादव के दो पुत्र नीरज कुमार(12) और धीरज कुमार(10), सुखेंद्र यादव का पुत्र प्रिंस कुमार(12) एवं योगेंद्र यादव का पुत्र अमित कुमार(12) शामिल हैं।

इस घटना पर मदनपुर प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न पंचायतों के मुखिया एवं जनप्रतिनिधियों ने गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। शोक व्यक्त करनेवालो में रफीगंज विधानसभा के पूर्व प्रत्याशी रहे एवं लोजपा, रामविलास प्रदेश महासचिव मनोज कुमार सिंह, जिला पार्षद शंकर याद्वेन्दू , राजद के मदनपुर प्रखंड अध्यक्ष सरोज कुमार, पिपरौरा पंचायत के मुखिया एवं मदनपुर प्रखंड के राजद युवा प्रकोष्ठ अध्यक्ष धनंजय कुमार यादव, खिरियावां पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि रंजीत यादव, बनिया पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि डॉ रामानंद रविदास, घटराइन पंचायत के मुखिया प्रत्याशी रहे टिंकू गुप्ता, मनिका पंचायत के राजद नेता एवं वार्ड प्रतिनिधि सुभाष यादव, मनिका पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि शंकर राम, सलैया पंचायत के मुखिया मनोज चौधरी, बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुधीर कुमार सिंह, मनिका पंचायत के राजद नेता सह वार्ड प्रतिनिधि सत्येंद्र यादव, मनिका पंचायत से वार्ड सदस्य अनुप सिंह समेत अन्य लोग शामिल हैं ।

गौरतलब हो कि ये सभी बच्चे रक्षाबंधन के शुभ अवसर पर राखी बंधवाने के बाद गांव के ही पोखरा में सन्नान करने चले गये थे। सभी कपड़े बाहर रखे थे। जब किसी की नजर इन कपड़े पर पड़ी और कोई पोखर में नहीं मिला तो इसकी सूचना गांव में दी गई । बाद में सभी बच्चों के शव को बाहर निकाला गया और पास के प्राइवेट हॉस्पिटल में ले जाया गया । लेकिन तबतक देर हो चुकी थी।

Leave A Reply

Your email address will not be published.