Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

बिहार में घर बनाना होगा अब मंहगा, 25 से 30 प्रतिशत तक बढे़गा दाम, एक ट्रैक्टर बालू के लगेंगे इतने रुपये

0 328

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बिहार में एक और मंहगाई की मार के लिए आम लोगों को तैयार रहना होगा । क्योंकि आनेवाले दिनों में राज्य के लोगों के लिए घर बनाना मंहगा हो जाएगा। सीएम नीतीश सरकार ने फल्गू, सोन समेत पांच नदियों के बालू के स्वामित्व दर में दोगुनी बढ़ोतरी की है। इसका असर सीधे तौर पर बालू के दामों पर पड़ेगा। इससे बालू के दामों में 25 से 30 फीसदी तक दाम बढ़ सकते हैं। अब बालू के दाम बढऩे से कंस्ट्रक्शन कहर भी बढ़ जाएगा और आम आदमी को बड़ा झटका लगेगा

फर्नीचर शॉप

सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में सोन, किउल, फल्गु, चानन और मोरहर नदी के बालू का स्वामित्व दर प्रति घनमीटर 75 रुपये से बढ़ाकर 150 रुपये कर दिया गया। इससे सरकार का राजस्व बढ़ेगा। नवंबर 2019 में भी बालू की स्वामित्व दर बढ़ाई गई थी। इस तरह तीन साल बाद स्वामित्व दर में बढ़ोतरी की गई है। इसके बाद बालू की बाजार में कीमत 25 से 30 फीसदी बढ़ने की उम्मीद है।

बता दें कि इन पांच नदियों का बालू लाल होता है, जिसका उपयोग निर्माण कार्य में किया जाता है। इसकी गुणवत्ता भी उच्च श्रेणी की होती है। इस कारण इसकी मांग ज्यादा है। अभी बिहार में बालू का खनन बंद है। एक अक्टूबर से बालू का खनन शुरू होना है, तभी से नई दर लागू होगी। बैठक के बाद कैबिनेट सचिवालय के अपर मुख्य सचिव डॉ. एस सिद्धार्थ ने यह जानकारी दी।

बंदोबस्ती दर बढ़ाने के असर को इस तरह समझ सकते हैं। सोन नदी के सौ सीएफटी (एक ट्रैक्टर) बालू के लिए बंदोबस्तधारियों को अब तक रॉयल्टी के रूप में 212.50 रुपये देने पड़ते थे। नये फैसले से अब यह दर 425 रुपये प्रति सौ सीएफटी हो गई है। भोजपुर के घाटों पर बंदोबस्तधारियों की ओर से सौ सीएफटी बालू के लिए 1800 से 3000 रुपये तक का चालान कटता था। तब बाजार में यह बालू 4 से साढ़े चार हजार में बिकता था। अनुमान है कि अब चालान 3 से 4 हजार का कटेगा। ऐसे में एक ट्रैक्टर बालू की कीमत बाजार में 5 से 6 हजार होगी। यानी, दाम में 25 से 30 फीसदी की बढ़ोतरी संभव है।

वहीं दूसरी तरफ विभाग का मानना है कि नये सिरे से बंदोबस्ती के बाद राज्य में बालू घाटों की संख्या भी बढेगी। जिससे खनन के क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ जाएगी। इससे स्वामित्व दर में बढोतरी का बालू के बाजार दर पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.