Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

STET शिक्षक पात्रता परीक्षा पास अभ्यर्थियों ने जनता दरबार में CM नीतीश से बहाली की लगाई गुहार

आपको बता दें कि एसटीईटी अभ्यर्थी प्रभाकर ने सीएम नीतीश के सामने अपनी बातों को रखते हुए कहा कि हम सब अभ्यर्थी 2012 से पास होकर नियोजन की आस में भटक रहे हैं.

0 258

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: विगत 9 वर्षों से STET शिक्षक पात्रता परीक्षा पास होने के बाद भी नियोजन की खातिर दर-दर की ठोकरें खा रहे अभ्यर्थियों ने जनता दरबार में सीएम नीतीश कुमार से मिलकर अपनी बात को रखा. सीएम नीतीश ने तुरंत संबंधित मंत्री और अधिकारी को फोन लगाकर इस मामले को देखने की बात कही. वहीं जनता दरबार से बाहर आने के बाद अभ्यर्थी प्रभाकर ने बताया कि सीएम नीतीश कुमार ने उनकी बातों को सुना और तुरंत फोन लगाकर इसे संबंधित मंत्री और अधिकारियों को देखने को कहा. आपको बता दें कि एसटीईटी अभ्यर्थी प्रभाकर ने सीएम नीतीश के सामने अपनी बातों को रखते हुए कहा कि हम सब अभ्यर्थी 2012 से पास होकर नियोजन की आस में भटक रहे हैं.

उन्होंने यह भी बताया कि हम सभी ने जमुई के साथियों के साथ मिलकर विधायका, अंतरराष्ट्रीय निशानेबाज एवं गोल्ड मेडलिस्ट श्रेयसी सिंह को भी अपना आवेदन पत्र दिया और अपनी व्यथा सुनाई. विधायिका ने शीघ्र ही मंत्री से मिलकर समस्याओं के समाधान की बात कही. वहीं STET शिक्षक पात्रता पास अभ्यर्थी संघ के प्रदेश अध्यक्ष धनंजय कुमार ने बातचीत में बताया कि सीएम नीतीश कुमार के प्रति हम सभी अभ्यर्थियों की पूरी आस्था है. उन्होंने कहा कि हम सभी को विश्वास है कि सीएम नीतीश कुमार हम बेरोजगार अभ्यर्थियों की व्यथा को भी समझेंगे.

 

गौरतलब हो कि ये STET शिक्षक पात्रता पास अभ्यर्थी 2012 से नियोजन की आस में हैं लेकिन इनकी बहाली  रिक्ती के अभाव में अभी तक नियोजन नहीं हो सकी है. वहीं जनता दरबार में सीएम नीतीश कुमार से मुलाक़ात के बाद अभ्यर्थियों में नियोजन की आस जगी है.  बता दें कि हाल ही में अभ्यर्थियों ने जेडीयू एमएलसी उपेन्द्र कुशवाहा से भी बेतिया में उनकी भ्रमण यात्रा के दौरान मिलकर अपनी बातों को रखा है.

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज जनता दरबार में लोगों की समस्याओं को सुना. यह जनता दरबार 5 साल के लम्बे समय अंतराल के बाद आयोजित किया गया. बड़ी संख्या में अपनी समस्याओं को लेकर लोगों की भीड़ उमड़ी. इसके लिए पहले ही रजिस्ट्रेशन और उनका  आरटी-पीसीआर कोरोना टेस्ट कराया गया था. लोगों की इस जनता दरबार से इतनी उम्मीदें हैं कि बिना रजिस्ट्रेशन के ही वे सीधे जनता दरबार पहुँचे . इस दौरान कोरोना गाइडलाइंस का पालन भी किया गया.

Leave A Reply

Your email address will not be published.