Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

एक अणे मार्ग स्थित सीएम आवास पर गूंज रहे हैं छठ के गीत वहीं राबड़ी आवास पर नहीं मन रहा छठ

0 142

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: पूरे देश भर में लोक आस्था के महापर्व छठ में जुटा हुआ है। चाहे वह व्यक्ति आम हो या खास। चारो तरफ छठ पूजा के गीत गूंज रहा है। नेता से लेकर अधिकारी तक भक्ति के रंगों में डूबे हैं ।

ऐसे में मुख्यमंत्री आवास से भी महापर्व छठ पूजा की भी खबर आ रही है। एक अणे मार्ग स्थित मुख्यमंत्री आवास पर छठ के गीत गूंज रहे हैं।

जबकि पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी आवास में इस साल छठ पर्व नहीं मनाया जा रहा है।

मुख्यमंत्री आवास में इस साल छठ पर्व मनाया जा रहा है। जदयू के एक नेता ने बताया कि प्रत्येक वर्ष की भांति

चुनाव चिन्ह

इस वर्ष भी नीतीश कुमार की भाभी छठ पर्व कर रही हैं। इस मौके पर परिवार के अन्य सदस्य भी यहां छठ पर्व में शामिल हो रहे हैं।

चुनाव चिन्ह

इधर, पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद की तबियत खराब होने के कारण पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी का आवास इस छठ पर्व पर सूना है।

चुनाव चिन्ह

राबड़ी आवास पर इस साल छठ के गीत नहीं गूंज रहे हैं। कहा जा रहा है कि लालू प्रसाद राबड़ी देवी दिल्ली में हैं।

चुनाव चिन्ह

पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी गया के अपने गांव महनार में छठ मैया की अराधना करेंगे।

चुनाव चिन्ह

मांझी के परिजनों के मुताबिक, मंत्री संतोष मांझी की पत्नी दीपा मांझी सहित पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की तीनों बहुएं इस साल छठ पर्व कर रही हैं।

इधर, उपमुख्यमंत्री रेणु देवी अपने पैतृक आवास बेतिया में छठ पर्व कर रही हैं, जबकि उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद कटिहार में छठ पर्व के मौके पर लोगों के बीच उपस्थित रहेंगे।

चुनाव चिन्ह

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल अपने पैतृक आवास बेतिया में परिजनों के साथ छठ पर्व मनाएंगे। बताया जा रहा है कि जायसवाल की पत्नी छठ पर्व कर रही हैं।

चुनाव चिन्ह

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा की पत्नी भी इस साल अपने पैतृक आवास दरभंगा के मनिगाछी में छठ पर्व कर रही हैं।

चुनाव चिन्ह

बता दें कि लोकआस्था के महापर्व छठ पूजा खासकर बिहार और यूपी राज्य में बहुत संख्या में श्रध्दालुओं के द्वारा किया जाता है। इस दौरान काफी साफ-सफाई का ध्यान रखा जाता है।

चुनाव चिन्ह

वैसे इस पर्व के पीछे कई मान्यताएँ हैं । लेकिन यह भी माना जाता है कि जिन्हें कोई संतान नहीं है वह अगर इस पर्व को करती हैं तो छठी मैया अपने भक्तों की इच्छा को पुरी करती हैं ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.