Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

बिहार इंजीनियरिंग के छात्रों ने फिर एकेयू पहुँचकर किया सत्र विलंब के विरोध में प्रदर्शन

0 111

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बिहार इंजीनियरिंग के छात्रों ने एक बार फिर आर्यभट्ट नॉलेज यूनिवर्सिटी (एकेयू) पहुँच कर सत्र में विलंब होने को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। अब तक छात्र लगातार चार बार विश्वविद्यालय आकर सत्र विलंब के विरोध में प्रदर्शन कर चुके हैं। इसके बावजूद भी अभी तक छात्रों की समस्याओं का हल नहीं किया गया है। इंजीनियरिंग का सत्र 2020 – 24 लगभग 8 माह विलंब से चल रही है जबकि शेष सभी सत्र भी लगभग 2 माह विलंब से चल रहा है। सत्र 2020 – 24 के छात्रों का कहना है कि उनका सत्र पहले से ही 8 माह विलंब से चल रहा है । ऐसी स्थिति में भी विश्वविद्यालय छात्रों की परेशानियों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। विश्वविद्यालय के द्वारा इनके द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षा को 27 जनवरी से लिये जाने की घोषणा की गई थी लेकिन अब तक दो बार इनके परीक्षाओं को स्थगित कर परीक्षा की तिथि को आगे बढ़ाया गया है ।

बिहार इंजीनियरिंग के छात्र सोनू कुमार, राहुल कुमार, आदित्य कुमार, रौनक राज, राजेश रंजन, परमजीत कुमार विद्यार्थी, आदि छात्रों का कहना है कि विश्वविद्यालय को सत्र 2020 – 24 के द्वितीय सेमेस्टर के छात्रों को जल्द से जल्द प्रमोट कर देना चाहिए । जिससे कि वह जल्द ही तृतीय सेमेस्टर की तैयारी शुरू कर सकें ।

साथ ही छात्रों की यह भी माँग है कि विश्वविद्यालय के द्वारा सत्र 2020 – 24 के छात्रों के बचे हुए सभी सेमेस्टरों के लिए परीक्षा कैलेंडर निकाला जाय । एक निश्चित परीक्षा कैलेंडर के होने से कॉलेज, शिक्षक एवं छात्र सभी समय के अनुसार आगामी सेमेस्टरों की तैयारी कर सकेंगे और इस प्रकार छात्रों का सत्र विलंब होने से बचेगा ।

वही विश्वविद्यालय के द्वारा इस बार सकारात्मक आश्वासन दिया गया है । विश्वविद्यालय के द्वारा कहा गया है कि सत्र 2020 – 24 के छात्रों के लिए हर संभव, उचित एवं छात्रहित निर्णय लिया जाएगा । यदि संभव हो तो एआईसीटीई और यूजीसी के गाइडलाइन्स के अनूरूप प्रमोट पर भी विचार किया जाएगा । आगे यह भी अश्ववासन दिया गया है कि सत्र 2020 – 24 के छात्रों के सत्र को धीरे – धीरे नियमित कर दिया जाएगा एवं उनकी डीग्री को समय पर पूरा करा दिया जाएगा ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.