Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: खिरियावां पंचायत के मुखिया प्रतिनिधि रंजीत कुमार यादव ने भ्रमण कर लिया समस्याओं का जायजा

0 239

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बिहार में पंचायत चुनाव के गठन के बाद पंचायत प्रतिनिधियों ने अपने क्षेत्र का जायजा लेना शुरू कर दिया है। वे अपने पंचायत में जाकर क्षेत्र की जनता से मिलकर उनकी समस्याओं को देख रहे हैं और उनकी सहायता कर रहे हैं। कुछ इसी तरह की खबर औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड अंतर्गत खिरियावां  पंचायत से है जहाँ शनिवार से ही रूक -रूककर हो रही बारिश के कारण आमलोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। जिनका घर फ़ूस का है वह किसी तरह इस बारिश में रहने को मजबूर हैं ।

फ़ुस के मकान को मरम्मत करती महिला

इन्हीं सब समस्याओं का जायजा लेने के लिए रविवार को खिरियावां पंचायत के मुखिया सविता देवी के निर्देश पर मुखिया प्रतिनिधि रंजीत यादव बरियावां और कटैया गांव में जाकर ग्रामीणों से मिले और उनकी समस्याओं को देखा-सुना। साथ ही उन्होंने उन गरीब परिवारों से भी मुलाकात की जिनके घर के छत फ़ूस से ढंके हैं और इस बारिश में उसी छत के नीचे रहने को मजबूर हैं। उन्होंने इस तरह के ग्रामीणों को इंदिरा आवास की सुविधा दिलवाने की बात की।

मुखिया प्रतिनिधि रंजीत कुमार यादव

वहीं मुखिया प्रतिनिधि रंजीत कुमार यादव ने बताया कि इस पंचायत के लोग अभी भी विकास से कोसों दूर हैं । बहुत से लोग आवास विहीन हैं । जीविका का मजदूरी के आलावा कोई साधन नहीं है। अगर पूर्व के जन प्रतिनिधियों ने इसपर ध्यान दिया होता तो इनकी यह स्थिति नहीं होती।

फ़ुस के मकान

उन्होंने कहा कि इस असमय बारिश के कारण किसानों की फसलें चौपट हो गई है। वे इसे लेकर कृषि पदाधिकारी से भी मिले हैं । जायजा भी कृषि पदाधिकारियों ने लिया लेकिन अब तक कुछ नहीं जमीन पर आया है कि सरकार कब तक, किस तरह लोगों को मुआवजा देगी और कितना देगी। इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई है। उन्होंने सरकार से मांग की कि ऐसे लोगों को तुरंत मुआवजा दी जाय्।

आपको बता दें कि जिले के मदनपुर प्रखंड में इस बारिश के कारण फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है। गेहूं , टमाटर, मक्का,प्याज और कई तरह की फसलें बर्बाद हो गई है। वैसे तो मौसम का कहर पुरे जिले में जारी है। फिलहाल यह स्थिति 25 जनवरी तक रहने की उम्मीद है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.