Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: रफीगंज में छापेमारी कर दो बाल श्रमिकों को कराया गया मुक्त वहीं अगलगी पीड़ित परिवारों को सीओ ने दिया चेक

0 99

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बुधवार को रफीगंज में बाल श्रमिकों से कार्य कराने वाले दूकान के खिलाफ छापेमारी अभियान चलाया गया । यह छापेमारी डीएम द्वारा गठित  टीम के द्वारा किया गया । इसके तहत रफीगंज के विभिन्न होटलों, ढाबों एवं गैराजों में छापेमारी की गई । इस छापेमारी के दौरान दो बाल श्रमिकों को मुक्त करवाया गया है। श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी बब्लू कुमार ने बताया कि रफीगंज बस स्टैंड के पास रसभरी होटल एवं स्वीट्स इंडिया होटल से एक-एक बाल श्रमिक को मुक्त करवाया गया है। होटल मालिकों को हिदायत दी गई है कि बाल श्रमिकों से कार्य कराना कानून अपराध है। 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों का किसी भी प्रतिष्ठान में काम कराने पर प्रतिबंध है।


बता दें कि दोनों होटलों से मुक्त कराए गए बाल श्रमिक 12 वर्ष एवं 10 वर्ष के हैं। दोनों होटल संचालकों के विरुद्ध बाल एवं किशोर श्रम अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कराया गया है। इस अधिनियम के तहत अधिकतम 50000 रुपये जुर्माना या एक साल का कैद अथवा दोनों का प्रावधान है। बताया कि यह अभियान लगातार जारी रहेगा। छापेमारी टीम में श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी के साथ मदनपुर के पदाधिकारी रंजन कुमार एवं देव के सुशील कुमार शामिल रहे।

बजाज एजेंसी, मदनपुर

वहीं एक अन्य मामले में अंचल कार्यालय में सीओ अवधेश कुमार ने प्रखंड क्षेत्र के अगलगी पीड़ित परिवारों के बीच बुधवार को मुआवजा का चेक वितरण किया। सीओ ने बताया कि रामपुर परासिया गांव के सूर्यदेव यादव, मानदेव यादव, धर्म देव यादव, अनिल यादव, बुधनी कुंवर को मुआवजा का चेक दिया गया है। सभी का घर कुछ दिन पहले अगलगी की घटना से जल गया था। आग से जानवरों की मौत हुई थी। बताया कि इस गांव के अलावा ढोल गांव के बिगु दास को मुआवजा का चेक दिया गया है। बिगु का घर भी अगलगी की घटना में जल गया था। सभी पीड़ित परिवारों को अगलगी की घटना में काफी नुकसान हुआ था। दोनों गांव के छह पीड़ित परिवार के बीच 9800 प्रति परिवार यानी कुल 58800 का चेक सरकारी प्रावधान के अनुसार सहायता राशि के रुप में वितरण किया गया है। पीड़ित परिवारों को उनके गांव में जाकर प्लास्टिक एवं तिरपाल की व्यवस्था दिया गया है। उप प्रमुख प्रतिनिधि कमलेश यादव, राजस्व पदाधिकारी डा. नरेंद्र कुमार सिंह, नाजिर नकुल राम, राजस्व कर्मचारी दिलीप राय, शंभू बैठा उपस्थित रहे।

बता दें कि गर्मी के मौसम आते ही आगलगी की घटनाओं में तेजी से वृद्धि हुई है। कई जगहों पर कई के घर जल गये हैं तो कई जगह किसानों के पुआल और गेहूं जलकर राख हो गया है। हालांकि राज्य सरकार द्वारा इसे लेकर बचाव से संबंधित दिशा-निर्देश समय-समय पर जारी की जाती है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.