Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

चिराग ने मांगा पिता स्व.रामविलास के लिए भारत रत्न,5 जुलाई से शुरू करेंगे आशीर्वाद यात्रा

0 156

जे.पी .चन्द्रा की रिपोर्ट 
बिहार नेशन :बिहार मे लोजपा पार्टी का विवाद अब गहराता ज रहा है। चिराग पासवान ने मोर्चा खोलकर अपने चाचा पशुपति पारस के खिलाफ साफ़ संकेत दे दिया है। चिराग पासवान ने आज यानी रविवार को दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई । बैठक बुलाकर चिराग ने अपना दम दिखाया।

एलजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग ने कहा कि इस बैठक में बागी सांसदों के खिलाफ यह निर्णय लिया गया की वे लोजपा का सिम्बल नहीं प्रयोग करें । बता दें कि चिराग पार्टी पर अपना दावा ठोक रहे हैं तो वहीं उनके बागी चाचा पशुपति पारस अपना दावा ठोक रहे हैं ।लेकिन अब चिराग पासवान सड़क पर उतरने के मूड में हैं ।

चिराग पासवान ने रविवार को एलजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद अपनी मां के पैर छूकर आशीर्वाद लिए। चिराग ने कहा कि अब मुझे सबके आशीर्वाद की जरूरत है। मेरी माँ का आशीर्वाद ढाल की तरह मेरे साथ खड़ी रही। चिराग बात करते-करते भावुक हो गए और कहा कि ये लड़ाई धैर्य से लड़ूंगा। चिराग ने कहा कि बैठक में बागियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कारवाई की जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि बिहार के हर जिले से उन्हें चुनाव में आशीर्वाद मिले हैं । इसलिए वे 5 जुलाई से आशीर्वाद यात्रा पर लोगों से आशीर्वाद लेने निकलेंगे । इस यात्रा की शुरुआत उनके पिता की कर्मभूमि हाजीपुर से शुरू की जाएगी ।

बता दें कि अभी इस लोकसभा सीट से रामविलास पासवान के भाई पशुपति पारस सांसद हैं ।उन्होंने कहा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह तय किया गया है कि उनके पिता को भारत रत्न दिया जाए और उनकी बड़ी प्रतिमा भी बनाई जाए।

चिराग ने कहा की वे सच्चाई के साथ लड़ेगे. ये लड़ाई महाभारत की तरह है क्योंकि सामने भी अपने हैं. उन्होंने कहा कि मेरे साथ 90 फीसदी कार्यसमिति के सदस्य थे। दिल्ली और जम्मू कश्मीर को छोड़कर बाकी सभी राज्यों के अध्यक्ष हमारे साथ हैं। उनके साथ महज नौ लोग थे. वो बताएं कि उनकी कार्यसमिति में कितने लोग थे.

चिराग पासवान के आशीर्वाद यात्रा के लिए हाजीपुर को चुनने के पीछे यह कारण माना जा रहा है कि इस समय की परिस्थितियों में वे अपने चाचा पशुपति पारस को उनके ही निर्वाचन क्षेत्र में घेरना चाहते हैं. हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र को रामविलास पासवान की परंपरागत सीट माना जाता है.

गौरतलब है कि इसके पहले लोजपा सांसद पशुपति पारस ने चिराग को छोड़कर पाँच सांसदों को लेकर यह दावा किया है की वो लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं । साथ ही लोकसभाध्यक्ष ओम विरला से मिलकर लोकसभा में पार्टी संसदीय दल के  नेता की भी मान्यता ले ले लिये हैं। इसी घटनाक्रम से आहत होकर चिराग ने सभी बागी सांसदों को पार्टी से निष्कासित कर दिया है। वहीं चिराग ने लोकसभाध्यक्ष से मिलकर कहा है कि असली लोजपा पार्टी उनकी है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.