Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

थानाध्यक्ष संजय कुमार के पटना, औरंगाबाद सहित कई ठिकानों पर EOU ने की छापेमारी, करोड़ों की काली कमाई का खुलासा

0 463

 

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में वैशाली थानाध्यक्ष संजय कुमार के चार ठिकानों पर बिहार की आर्थिक अपराध इकाई ने छापेमारी की है। उनपर आरोप है कि उन्होंने शराब माफियाओं से सांठ-गांठ करके अवैध संपत्ति अर्जित की है। उनके पटना समेत चार ठिकानों पर छापेमारी में करोड़ों रूपये की संपत्ति का पता चला है।

ईओयू के आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को यहां बताया कि श्री कुमार के राजधानी पटना के रूपसपुर के फ्लैट, औरंगाबाद के पैतृक आवास के साथ ही वैशाली स्थित उनके कार्यालय और आवास पर छापेमारी की गई । छापेमारी में अकूत संपत्ति का पता चला है।

सूत्रों ने बताया कि पटना के रूपसपुर में एक आलीशान फ्लैट के अलावा 210000 रुपए नकद, करीब 11 लाख रुपए के स्वर्ण आभूषण, जमीन एवं बैंक के कई कागजात जब्त किए गए हैं। शराब माफियाओं से सांठगांठ की बात प्रमाणित होने पर श्री कुमार के पटना के रूपसपुर के फ्लैट, औरंगाबाद के पैतृक आवास और वैशाली थाना एवं आवास की तलाशी ली गई । वह वर्ष 2009 से सेवा में आने के बाद कई जिलों में सेवा के दौरान अवैध कमाई से विलासिता पूर्ण जीवन जी रहे थे।

श्री कुमार ने अपनी पत्नी के नाम से पटना के रूपसपुर में 36 लाख रुपए में फ्लैट खरीदा था। इसके अलावा निबंधन पर भी लाखों रुपए खर्च हुए थे । पति पत्नी के नाम से स्टेट बैंक और एचडीएफसी बैंक में तीन खाता का दस्तावेज बरामद किया गया है, जिसमें काफी राशि जमा है। वहीं, काफी ट्रांजेक्शन भी हुआ है। पत्नी के नाम से वित्तीय संस्थानों एवं बैंकों में काफी अधिक निवेश की जानकारी मिली है।

ईओयू सूत्रों ने बताया कि थानाध्यक्ष ने करीब 13 लाख रुपए में एक स्कॉर्पियो (वाहन) भी खरीदा है। इस के दस्तावेज भी जब्त किए गए हैं । इन पर आय से 81 प्रतिशत अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला दर्ज किया गया है। पटना स्थित फ्लैट की तलाशी में 210000 रुपये नकद करीब 1100000 रुपए के स्वर्ण आभूषण तथा एक अन्य कीमती वाहन जब्त किये गये हैं। इसी तरह पटना के फ्लैट में साज-सज्जा पर भी काफी रुपया खर्च किया गया

बता दें कि जिले के रफीगंज शहर के हाजीपुर मोहल्ले के निवासी एवं वैशाली के थानेदार संजय कुमार के पैतृक घर पर आर्थिक अपराध इकाई के टीम ने करीब 4 घंटे से अधिक समय तक छापेमारी किया। हालांकि संजय कुमार का रफीगंज में पैतृक घर है लेकिन वे यहाँ रहते नहीं हैं । वे कभी-कभार कोई कार्य में आते हैं । इस छापेमारी मामला उनकी कुल संपत्ति 84 लाख रुपये आंकी जा रही है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.