Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

गया: जिप के पूर्व अध्यक्ष स्व.बिंदेश्वरी प्रसाद यादव की प्रथम पुण्यतिथि पर कई जिलों के लोग हुए शामिल

0 115

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट
बिहार नेशन:गया  जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष स्व. विन्देश्वरी प्रसाद यादव की प्रथम पुण्यतिथि कार्यकर्ताओं एवं समर्थकों के द्वारा भव्य तरीके से मनाई गई। इस मौके पर शहर के जिला परिषद कार्यालय के प्रांगण में बिंदेश्वरी प्रसाद यादव की प्रतिमा पर कार्यकर्ताओं ने श्रद्धा सुमन व्यक्त कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। मौके पर जदयू की निवर्तमान एमएलसी सह बिंदेश्वरी प्रसाद यादव की पत्नी मनोरमा देवी, उनके भाई शीतल प्रसाद यादव, राजद विधायक मंजू अग्रवाल, जिला परिषद की अध्यक्ष करुणा कुमारी, हम पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामेश्वर प्रसाद यादव, लोजपा नेत्री कुमारी शोभा सिन्हा सहित विभिन्न राजनीतिक दलों के लोग मौजूद थे। माल्यार्पण करने के दौरान पत्नी मनोरमा देवी की आंखों से आंसू छलक छलक गए।

इस दौरान पत्रकारों से रूबरू होते हुए मनोरमा देवी ने कहा कि आज उनके पति बिंदेश्वरी प्रसाद यादव की पहली पुण्यतिथि मनाई जा रही है। आज के दिन हम उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। साथ ही आशा करते हैं कि वे जहां कहीं भी हो उनका आशीर्वाद परिजनों व समर्थकों के ऊपर बना रहे। जीवित रहते हुए उन्होंने समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलने का काम किया। सभी लोगों की जरूरत पड़ने पर बढ़-चढ़कर मदद की है। यही वजह है कि आज गया, जहानाबाद और अरवल तीनों जिलों से कार्यकर्ता व समर्थक उपस्थित हुए हैं।

उनके निधन के बाद भी समाज के सभी वर्ग के लोगों ने हमें अपना समर्थन दिया, यही वजह है कि आज हम राजनीतिक गलियारे में बने हुए हैं। हम लोगों से हाथ जोड़कर अपील करते हैं कि सभी लोग उसी तरह से अपना आशीर्वाद आगे भी बनाए रखें। ताकि अपने जीवन के लक्ष्य को हम हासिल कर सकें।

वहीं जिला परिषद की सदस्य करुणा कुमारी ने कहा कि स्व. बिंदेश्वरी प्रसाद यादव की प्रथम पुण्यतिथि जिला परिषद के प्रांगण में हमलोग मना रहे है। साथ ही उनके द्वारा किए गए कार्यों पर भी चर्चा कर रहे हैं। बिंदेश्वरी प्रसाद यादव समाज के सभी वर्ग के लोगो को साथ  लेकर चलने का काम किए थे। उन्होंने सभी लोगों की मदद की थी। हम भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं कि उनकी आत्मा को शांति मिले।

Leave A Reply

Your email address will not be published.