Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

बिहार में नगर निकाय चुनाव -2022 के लिए राज्य निर्वाचन आयोग ने जारी किए चुनाव चिन्ह

0 202

 

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

नेशन: बिहार में लंबे समय से नगर निकाय चुनाव -2022 की बात की जा रही है । लेकिन चुनाव आयोग द्वारा तारीखों का एलान न होने से मतदाता और प्रत्याशियों में निराशा है । लेकिन अब इसे लेकर एक और खबर हैं जिससे संकेत मिलते हैं कि जल्द ही नगर निकायों के भी चुनाव संपन्न होंगे। राज्य निर्वाचन आयोग ने शुक्रवार को चुनाव चिन्हों का आवंटन भी कर दिया है। इस चुनाव में उम्मीदवारों को दिलचस्प चुनाव चिन्ह दिये जाएंगे। कोई कप-प्लेट लेकर वोट मांगता दिखेगा तो काई, सीढ़ी, हारमोनियम, शंख, तराजू, कार और घोड़ा के सहारे अपनी चुनावी नैया पार लगाने की कोशिश करेगा।

बिहार नेशन

राज्य निर्वाचन आयोग ने नगर निकायों के चुनाव के लिए
मुख्य पार्षद, उप मुख्य पार्षद एवं पार्षद पद के लिए अलग-अलग चिह्न निर्धारित किया है। मुख्य पार्षद, उप मुख्य पार्षद एवं पार्षद पद के लिए अलग-अलग चिह्न निर्धारित किए गए हैं। मुख्य पार्षद पद के लिए 32, उप मुख्य पार्षद पद के लिए 21 एवं पार्षद पद के लिए 36 अलग-अलग चुनाव चिह्न निर्धारित किए गए हैं।

ये रहेगा मुख्य पार्षद के लिए निर्धारित चुनाव चिह्न

कप-प्लेट, मोटरसाइकिल, नल, ताला-चाबी, टमटम, प्रेशन कुकर, सिलाई मशीन, कबूतर, चरखा, चारपाई, टाइपराइटर, मछली, वैन, मेज, टेबल लैंप, रेल इंजन, गैस सिलेंडर, हारमोनियम, बल्ब, जलता दीया, कोट, जोड़ा हिरण, मुर्गा, तुरही, कछुआ, लेटर बॉक्स, स्टूल, कुदाल, अलमीरा, जीप, शंख तथा सीढ़ी।

ये है उप मुख्य पार्षद के लिए निर्धारित चिह्न

गेहूं की बाली, पीपल का पत्ता, घड़ा, चश्मा, कुल्हाड़ी, टेबल फैन, तितली, पानी का जहाज, आम, स्कूटर, रोड रोलर, बकरी, हाथ ठेला, बत्तख, तराजू, कार, छाता, डमरू, घोड़ा, तबला तथा डोली।

पार्षद पद के लिए चुनाव चिह्न

कलम व दावात, ढोलक, टेंपू, वायुयान, मोमबत्तियां, काठ गाड़ी, मोर, चिमनी, कैमरा, पुल, जोड़ा बैल, खजूर का पेड़, बाल्टी, जग, चापाकल, टोकरी, उगता हुआ सूरज, तोता, टेलीविजन, टार्च, डीजल पंप, टॉफी, गाजर, मोबाइल, ट्रैक्टर, कुंआ, कुर्सी, स्टोव, ब्लैक बोर्ड, ऊंट, किताब, सीटी, हंसिया, केतली, गैस चूल्हा तथा सेब।

बगुला हल सहित 25 चिह्न सुरक्षित रखे गए

25 चुनाव चिह्न सुरक्षित रखे गए हैं। इनका उपयोग एक क्षेत्र में एक से अधिक उम्मीदवार होने या विशेष परिस्थिति में किया जाएगा। इन सुरक्षित चिह्नों में लट्टू, बगुला, हल, बरगद का पेड़, चौका-बेलन, टोप, लिफाफा, मक्का, कांच की ग्लास, अंगूठी, ट्रक, बांसुरी, भोजन की थाली, माचिस, हैंगर, कंघा, खल-मूसल, खुरपी, नारियल, बल्ला, फ्रॉक, गुड़िया, लेडीज पर्स, ब्रश तथा मोतियों की माला शामिल है।

गौरतलब हो कि बिहार में नगर निकायों के तहत नगर निगम, नगर पंचायत और नगर परिषद् के चुनाव होना बाकी है। क्यास लगाए जा रहे थे कि चुनाव मार्च तक हो जाएंगे लेकिन अब यह तारीख बढ़ते गया । लेकिन अब संभावना है कि जल्द ही चुनाव करा लिए जाएंगे ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.