Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

तेजस्वी ने कहा- नीतीश जी आंकड़ों का फर्जीवाड़ा बंद कीजिए, जनता ये खूब समझती है

बिहार में राज्य सरकार पर आंकड़ों के साथ हेर फेर करने का आरोप प्रतिपक्ष नेता तेजस्वी यादव ने लगाया है. उन्होंने कहा है कि सरकार द्वारा गलत आंकड़े पेश किये जा रहे हैं. जांच में भी पिछले माह की तुलना में कमी आई है लेकिन सरकार इसे बढ़ा चढ़ाकर बता रही है.

0 62

बिहार नेशन : बिहार में राज्य सरकार पर आंकड़ों के साथ हेर फेर करने का आरोप प्रतिपक्ष नेता तेजस्वी यादव ने लगाया है. उन्होंने कहा है कि सरकार द्वारा गलत आंकड़े पेश किये जा रहे हैं. जांच में भी पिछले माह की तुलना में कमी आई है लेकिन सरकार इसे बढ़ा चढ़ाकर बता रही है. तेजस्वी ने सीएम नीतीश कुमार निशाना साधते हुए आंकड़ो से हेर –फेर का आरोप लगाया है. उन्होंने अस्पतालों में फ़ैली अव्यवस्था के साथ –साथ होने RT-PCR टेस्ट की जांच पर भी सवाल उठाए हैं. उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन एवं आईसीएमआर के मुताबिक़ RT-PCR टेस्ट कोरोना जाँच का Gold Standard है और उसे कुल जाँच का 70% होना चाहिये. लेकिन बिहार में नीतीश सरकार ठीक इसके विपरीत मात्र 25-30% RT-PCR जाँच कर रही है.

प्रतिपक्ष नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि इससे भी आश्चर्यजनक तथ्य ये है कि पिछले माह की तुलना में बिहार सरकार ने इस जाँच संख्या में 41% कटौती की है जबकि पॉजिटिविटी रेट 20% है. उन्होंने सीएम नीतीश कुमार निशाना साधते हुए कहा है कि ..आदरणीय नीतीश जी, बिहार की जनता आपकी सरकारी कारिस्तानियों से अनभिज्ञ नहीं है. स्वास्थ्य विभाग की सारी रिपोर्ट्स आख़िर आपके दावों के विपरीत क्यों होती है?  आँकड़ो का फ़र्ज़ीवाडा कर कृपया राज्यवासियों की ज़िंदगी के साथ खिलवाड़ करना बंद करिए.

आपको बता दें कि इस समय बिहार में कोरोना संक्रमण के कारण अस्पतालों की खराब हालत के कारण लोग काल के गाल में समा रहे हैं. अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड की काफी किल्लत है. वहीं वेंटिलेटर की कमी के कारण भी लोगों की जिन्दगी जा रही है. इन सारी खामियों को लेकर विपक्ष लगातार सीएम नीतीश कुमार को घेरता आ रहा है. विपक्ष यहाँ तक मांग कर चुका है कि बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था को सेना के हवाले कर देना चाहिए.

हाल ही में जाप नेता पप्पू यादव ने भी इस सवाल को उठाया था. साथ ही उन्होंने बीजेपी के सांसद राजीव प्रताप रूडी के सारण कार्यालय में छापा मारकर 40 से अधिक छुपाकर रखे गये एम्बुलेंस को मुक्त कराया था. ये सभी एम्बुलेंस सांसद निधी से खरीदे गए थें. हालांकि बीते मंगलवार को एक मामले में पटना पुलिस ने गिरफ्तार कर मधेपुरा पुलिस को सौप दिया था, जहाँ उनके खिलाफ 32 साल पुराना मामला है. बाद में रात्री में मजिस्ट्रेट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया. अभी फिलहाल उनके खराब स्वास्थ्य को लेकर दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है. जिसपर बिहार में राजनीति खूब गर्म है. कई नेता इसका विरोध कर रहे हैं.

Leave A Reply

Your email address will not be published.