Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: ग्रामीण क्षेत्र के आकाश दीप ने सब इंस्पेक्टर के पद पर ऐसे पाई सफलता..

बिहार में दारोगा सहित कई पदों के लिए ली गई परीक्षा का फाइनल रिजल्ट गुरूवार को घोषित कर दिया गया है. इस परीक्षा में कुल 2062 उम्मीदवारों ने बाजी मारी.

0 361

जे.पी.चन्द्रा की रिपोर्ट

बिहार नेशन: बिहार में दारोगा सहित कई पदों के लिए ली गई परीक्षा का फाइनल रिजल्ट गुरूवार को घोषित कर दिया गया है. इस परीक्षा में कुल 2062 उम्मीदवारों ने बाजी मारी. लेकिन इस भर्ती में ग्रामीण क्षेत्रों से भी आनेवाले कई मेधावी छात्रों ने परचम लहाराया है. ऐसे ही एक छात्र का नाम है आकाश दीप. इन्होने इस बार की परीक्षा में कई बाधाओं के बाद भी सफलता की शिखर पर चढ़ने में कामयाबी पाई है. बता दें कि इस बार बिहार पुलिस दारोगा भर्ती में कुल 2062 उम्मीदवारों का चयन किया गया है. इसमें 215 कैंडिडेट्स सार्जेंट और 125 कैंडिडेट्स सहायक जेल अधीक्षक के पद के लिए चुने गये हैं.

आकाश दीप औरंगाबाद जिले के मदनपुर प्रखंड अंतर्गत अंजनवां ग्राम के निवासी हैं. जो एक साधारण परिवार से आते हैं. इनके पिता उमेश यादव जनवितरण प्रणाली की दूकान चलाते हैं .जबकि माँ एक गृहणी हैं.  आकाश कुमार की प्रारंम्भिक शिक्षा-दीक्षा गामीण परिवेश में ही हुई हैं . इन्होने स्नातक में गणित विषय को प्रतिष्ठा के विषय के रूप में रखा.

बातचीत में आकाश दीप  ने बताया कि उनका लक्ष्य एयर फ़ोर्स बनना था. उन्होंने इस परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत भी की लेकिन अंतिम सफलता नहीं मिली. इसके बाद उन्होंने जनरल प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करना शुरू की और कई परीक्षाएं भी दी. लेकिन उनका सेलेक्शन 2019 में रेलवे में टेक्नीशियन के पद पर हो गया. परन्तु इन्होने जॉब करते हुए भी तैयारी को प्राथमिकता दी. इसी बीच बिहार के पुलिस विभाग में एसआई सहित कई पदों के लिए बहाली निकली. इन्होने भी SI पद के लिये अप्लाई कर दिया और कड़ी मेहनत के बल पर सफलता पाई .

आकाश दीप  ने बातचीत में सफलता का श्रेय अपनी माता-पिता और दोस्तो में संजन कुमार , प्रसेनजित कुमार , आकाश सिंह ,सोनू सिंह तथा अन्य  मित्रों को दिया जो हमेशा इन्हें  प्रोत्साहित करते रहें. सफलता के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कड़ी मेहनत से कोई भी छात्र सफलता प्राप्त कर सकते हैं. इन्होने बताया कि जब इनका सेलेक्शन कई परीक्षाओं में नहीं हुआ तो वे निराश नहीं हुए बल्कि इन्होने इस बात में विश्वास किया कि इससे भी बेहतर होगा. इसलिए उन्होंने सभी प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करनेवाले छात्रों से कहा कि हिम्मत नहीं हारे और तैयारी में जुटे रहें . जो भी पढ़े संतुलित और ठोस पढ़ें . बाजार में ढेर सारी पुस्तके उलब्ध है लेकिन चयनित किताब से ही अध्ययन करें, सफलता निश्चित मिलेगी.

मालूम हो कि कुल 2446 पदों पर बहाली के लिए प्रारंभिक परीक्षा 22 दिसम्बर 2019 को हुई थी. परीक्षा में करीब 5.85 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे. संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा का परिणाम 28 जनवरी 2020 को जारी किया गया था. हालांकि कई बार इस परीक्षा की तिथी राज्य में कोरोना संक्रमण के कारण बढाना पड़ा.लेकिन अंतिम में परीक्षा 29 नवम्बर 2020 को लिया.

Leave A Reply

Your email address will not be published.