Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

मोदी कैबिनेट की टीम में कौन संभालेगा कौन सी जिम्मेदारी, देखिए ये है पूरी लिस्ट

 गिरिराज सिंह- ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्रालय, ज्योतिरादित्य सिंधिया- नागर विमानन मंत्री, रामचंद्र प्रसाद सिंह- स्टील मंत्री, अश्विनी वैष्णव - रेलवे मंत्री संचार मंत्री और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, 

0 240

जे.पी.चन्द्रा की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट

बिहार नेशन: मोदी कैबिनेट का विस्तार बुधवार को किया गया. इस मंत्रीमंडल में कुल 43 मंत्रियों ने शपथ ली तो वहीं 12 मंत्रियों की छूट्टी भी कर दी गई है. वहीं अगर हम फिलहाल मोदी कैबिनेट में कुल मंत्रियो की बात करें तो इस समय कुल 78 मंत्री हैं. इसमें काबीना, राज्य , स्वतंत्र प्रभार सभी शामिल हैं.  कल के मंत्रीमंडल विस्तार के साथ ही उनके कार्यों का  विभाग भी वितरण कर दिया गया है. इसकी पूरी लिस्ट इस प्रकार है…..

पीएम मोदी के पास कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन, परमाणु ऊर्जा विभाग, अंतरिक्ष विभाग, सभी महत्वपूर्ण नीतिगत मुद्दे और सभी अन्य विभागों का प्रभार है जो किसी मंत्री को नहीं दिए गए हैं.

कैबिनेट मंत्री: राजनाथ सिंह- रक्षा मंत्री, अमित शाह– गृह मंत्रालय और सहयोग मंत्रालय, नितिन जयराम गडकरी– सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय, निर्मला सीतारमण– वित्त मंत्रालय और कॉर्पोरेट मंत्रालय, नरेंद्र सिंह तोमर– कृषि एवं कृषक कल्याण मंत्रालय, एस जयशंकर– विदेश मंत्री, अर्जुन मुंडा– जनजातीय कार्य मंत्री, स्मृति जुबिन ईरानी– महिला एवं बाल विकास मंत्री, पीयूष गोयल– वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री, उपभोक्ता कार्य मंत्री, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री, धर्मेंद्र प्रधान– शिक्षा मंत्रालय , कौशल विकास और उद्यमिता, प्रह्लाद जोशी- संसदीय कार्य मंत्री, कोयला मंत्री और खनन मंत्री, नारायण तातू राणे– सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्री, सर्वानंद सोनोवाल– पत्तन, पोत परिवहन एवं जलमार्ग मंत्री और आयुष मंत्री, मुख़्तार अब्बास नकवी– अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री, वीरेंद्र कुमार- सामाजिक न्याय एवं सहकारिता मंत्रालय, गिरिराज सिंह– ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्रालय, ज्योतिरादित्य सिंधिया– नागर विमानन मंत्री, रामचंद्र प्रसाद सिंह– स्टील मंत्री, अश्विनी वैष्णव – रेलवे मंत्री संचार मंत्री और इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, पशुपति  कुमार पारस- खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री, गजेंद्र सिंह शेखावत– जल शक्ति मंत्री, किरेन रिजिजू– कानून एवं न्याय मंत्री, राजकुमार सिंह– ऊर्जा मंत्री, नव एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री, हरदीप सिंह पुरी– पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री तथा आवास एवं शहरी विकास मंत्री, मनसुख मंडाविया– स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री और रसायन एवं उर्वरक मंत्री, भूपेंद्र यादव– पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री और श्रम तथा रोजगार मंत्री, महेंद्र नाथ पांडेय– भारी उद्योग मंत्री, परषोत्तम रूपला- मत्यस्यपालन पशुपालन एवं डेयरी मंत्री, जी किशन रेड्डी– संस्कृति मंत्री पर्यटन मंत्री और पूर्वोत्तर विकास मंत्री, अनुराग सिंह ठाकुर– सूचना एवं प्रसारण मंत्री और युवा एवं खेल मंत्री हैं.

राज्य मंत्री- स्वतंत्र प्रभार

राव इंद्रजीत सिंह- सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन और योजना राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) योजना मंत्रालय,राज्य मंत्री कॉर्पोरेट मामले

जितेंद्र सिंह– विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री, अंतरिक्ष और परमाणु ऊर्जा राज्य मंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री, पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय.

श्रीपद येसो नाइक- बंदरगाह, जहाजरानी और जलमार्ग मंत्रालय में राज्य मंत्री; और पर्यटन मंत्रालय में राज्य मंत्री, फग्गनसिंह कुलस्ते- इस्पात मंत्रालय में राज्य मंत्री; और ग्रामीण विकास मंत्रालय में राज्य मंत्री, प्रहलाद सिंह पटेल– जल शक्ति मंत्रालय में राज्य मंत्री और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय में राज्य मंत्री, अश्विनी कुमार चौबे- उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय में राज्य मंत्री; पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय में राज्य मंत्री,अर्जुन राम मेघवाल– संसदीय मामलों के राज्य मंत्री, संस्कृति मंत्रालय के राज्य मंत्री, जनरल (रिटायर्ड) वीके सिंह- सड़क और परिवहन, नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री, कृशन पाल- उर्जा मंत्रालय, भारी उद्योग में राज्य मंत्री, दानवे राव साहेब दादा राव– रेलवे, कोल और खान मंत्रालय के राज्य मंत्री, रामदास अठावले- सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री,  साध्वी निरंजन ज्योति- उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय में राज्य मंत्री, ग्रामीण विकास राज्य मंत्री, डॉक्टर संजीव कुमार बालयान- मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्रालय ,नित्यानंद राय– गृह मामलों के राज्य मंत्री है.

वहीं पंकज चौधरी- वित्त राज्य मंत्री, अनुप्रिया सिंह पटेल- वाणिज्य एवं उद्योग राज्य मंत्री, राजीव चंद्रशेखर– कौशल, उद्यमिता एवं इलेक्ट्रानिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री, शोभा करंदलाजे– कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री, भानु प्रताप सिंह वर्मा- सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम राज्य मंत्री, दर्शना विक्रम जरदोश- कपड़ा राज्य मंत्री, रेल राज्य मंत्री, मीनाक्षी लेखी- विदेश और संस्कृति मंत्रालय की राज्य मंत्री, सोम प्रकाश- वाणिज्य और उद्योग राज्य मंत्री, वी मुरलीधरन- विदेश और संसदीय कार्यों के राज्य मंत्री, रेणुका सिंह सतुरा– अदिवासी मामलों की राज्य मंत्री, रामेश्वर तेली– पेट्रोलियम उद्योग और प्राकृतिक गैस में राज्य मंत्री, श्रम और रोजगार राज्य मंत्री, कैलाश चौधरी- कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, अन्नपूर्णा देवी– शिक्षा मंत्रालय में राज्य मंत्री,  ए. नारायणस्वामी– राज्य मंत्री सामाजिक न्याय और अधिकारिता , कौशल किशोर- आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय राज्य मंत्री, अजय भट्ट– रक्षा और पर्यटन मामलों के राज्य मंत्री, बी. एल. वर्मा– उत्तर पूर्वी क्षेत्र के विकास और सहकारिता मंत्रालय के राज्य मंत्री, अजय कुमार– गृह राज्य मंत्री, चौहान देवूसिंह– संचार राज्य मंत्री,  भगवंत खुबा-नई और नवीकरणीय ऊर्जा राज्य मंत्री, रसायन और उर्वरक राज्य मंत्री, कपिल मोरेश्वर पाटील– पंचायती राज राज्य मंत्री, प्रतिमा भौमिक– राज्य मंत्री सामाजिक न्याय और अधिकारिता, डॉ. सुभाष सरकार– शिक्षा राज्य मंत्री, डॉ. भागवत किशनराव कराड– वित्त राज्य मंत्री, डॉ. राजकुमार रंजन सिंह– विदेश और शिक्षा राज्य मंत्री, डॉ. भारती प्रवीण पवार– स्वास्थ्य राज्य मंत्री, बिश्वेश्वर टुडु– आदिवासी मामलों और जल शक्ति राज्य मंत्री, शांतनु ठाकुर– बंदरगाहों, नौवहन और जलमार्ग के राज्य मंत्री, डॉ. मुंजपरा महेन्द्रभाई– महिला बाल विकास, और आयुष राज्य मंत्री,  जॉन बारला– अल्पसंख्यक मामलों के राज्य मंत्री, डॉ. एल. मुरुगन-मत्स्य पालन पशुपालन और डेयरी राज्य मंत्री सूचना प्रसारण राज्य मंत्री, निसिथ प्रामाणिक– गृह मामलों के राज्य मंत्री, खेल और युवा मामलों के राज्य मंत्री हैं.

आपको बता दें कि इस बार पीएम मोदी ने चुनावी राज्यों के प्रतिनिधित्व का पूरा ख्याल रखा है. सबसे बड़ी ख़ास बात इस मोदी कैबिनेट के विस्तार की यह है कि इंजीनीयर,वकील से लेकर एमबीए तक के पेशेवाले को मंत्रीमंडल में जगह दी गई है ताकी विकास का कार्य तेजी से किया जा सके.

Leave A Reply

Your email address will not be published.