Bihar Nation
सबसे पहेले सबसे तेज़, बिहार नेशन न्यूज़

औरंगाबाद: विश्व तंबाकू दिवस पर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने कहा-प्राधिकार के कर्मी इसका सेवन करने से बचें

देश में हर साल लाखो लोगों की मौत तम्बाकू के सेवन करने से होती है. हालांकि सरकार अपने तरफ से इसे रोकने के लिए कई प्रकार के नियम और इससे बचने के लिए विज्ञापन भी जारी करती है.

0 113

बिहार नेशन: देश में हर साल लाखो लोगों की मौत तम्बाकू के सेवन करने से होती है. हालांकि सरकार अपने तरफ से इसे रोकने के लिए कई प्रकार के नियम और इससे बचने के लिए विज्ञापन भी जारी करती है. लेकिन फिर भी लोग इसके सेवन से बाज नहीं आते हैं. आज यानी 31 मार्च को देश भर में इसके निषेध दिवस पर लोगों को जागरूक किया जा रहा है. वहीं बिहार के औरंगाबाद जिले में भी तम्बाकू से होनेवाली नुकसान और बीमारियों को लेकर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह प्राधिकार के अध्यक्ष श्री शिव गोपाल मिश्रा ने अपनी प्रतिक्रिया की. उन्होंने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि सभी लोगों  को इससे बचना चाहिए. क्योकि इससे कई बीमीरियाँ और शारीरिक दुष्प्रभाव होता है. उन्होंने ये बातें सोमवार को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के मौके पर प्राधिकार के कर्मियों को सचेत करते हुए कहा.

तम्बाकू दिवस 31 मई

उन्होंने कहा कि तंबाकू का सेवन करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कमजोर हो जाती है जिसका प्रभाव सीधे उनके स्वास्थ्य पर पड़ता है. वहीं इसके सेवन करने के बाद इसके थूकने से इस कोरोना काल में इसके संक्रमण दुसरे व्यक्ति में भी फैलने की संभावना बढ़ जाती है. इस मौके पर जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव प्रणव शंकर ने अपने सभी कर्मियों को तंबाकू के दुष्प्रभाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी. साथ ही उन्होंने सभी को इसके सेवन न करने की शपथ भी दिलाई.इस मौके पर प्राधिकार के कर्मी सुनील कुमार सिन्हा, कुन्दन कुमार, मनोज कुमार चैधरी, परशुराम कुमार सिंह, संजय कुमार तथा रिटेनर अधिवक्ता अभिनन्दन कुमार उपस्थित थें. इन सभी को तंबाकू सेवन नहीं करने के लिए शपथ भी दिलाया गया.

मालूम हो कि हर वर्ष 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है. इसकी शुऊआत  विश्व स्वास्थ्य संगठन ने 1987 में की थी. आपको बता दें कि पुरे विश्व में प्रति वर्ष लगभग 60 लाख लोगों की तम्बाकू सेवन के कारण मौत हो जाती है. इस कारण से इस दिन लोगों को जागरूक किया जाता है. तंबाकू एक धीमा जहर है. इससे कैंसर जैसी कई घातक बीमारियाँ होती हैं.कई लोग इसका सेवन शौक के तौर पर करते हैं लेकिन धीरे-धीरे यह आदत का रूप ले लेती है और लोगो को इसका पता ही नहीं चलता है.

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.